जदयू ने कर दी घोषणा : जल्द एक साथ नजर आएंगे सीएम नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव, जानें क्या है पूरी योजना

जदयू ने कर दी घोषणा : जल्द एक साथ नजर आएंगे सीएम नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव, जानें क्या है पूरी योजना

NEW DELHI/PATNA : बिहार के राजनीती में विरोधी नेता जल्दी ही हाथ मिला सकते हैं। यहां बात सीएम नीतीश कुमार और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की हो रही है। जो बहुत जल्द एक साथ नजर आ सकते हैं। इस बात की घोषणा खुद जदयू के तरफ से की गई है। जदयू सासंद सुनील कुमार पिंटू ने कहा  है कि दोनों नेता जल्द ही एक दूसरे से मिलनेवाले हैं। जिसके बाद बिहार को लेकर एक बड़ा फैसला किया जाएगा।

न्यूज4नेशन से बातचीत में सुनील कुमार पिंटू ने बताया कि तेजस्वी यादव और सीएम नीतीश कुमार सहित बिहार के तमाम विपक्षी पार्टियों के नेता एक साथ नजर आएंगे। मामला जातिगत जनगणना से जुड़ा है। जिसको लेकर बिहार का एक प्रतिनिधिमंडल जल्द ही पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर सकता है। सीतामढ़ी सांसद सुनील कुमार पिंटू ने कहा कि इस प्रतिनिधिमंडल में सीएम नीतीश कुमार सहित तेजस्वी यादव, बिहार भाजपा के नेता और तमाम विपक्ष पार्टियां जैसे माले, कांग्रेस के भी लोग मौजूद होंगे

पीएम से मिलने के लिए मांगा गया है टाइम

सांसद सुनील कुमार पिंटू ने बताया बिहार के मुख्यमंत्री ने पीएम से मिलने का समय मांगा है। जैसे ही प्रधानमंत्री अपना समय उन्हें देंगे, प्रतिनिधिमंडल उनसे मिलने के लिए जाएगा। इस दौरान सुनील कुमार पिंटू ने कहा जातिगत जनगणना आज की जरुरत है। आजादी के बाद से अब तक जातिगत जनगणना नहीं हुआ है। जिसके कारण हमें पिछड़ी जाति के लोगों की वास्तविक स्थिति के बारे में जानकारी नहीं है। इसके कारण नीति आयोग को भी इनके लिए सही तरीके से कोई योजना में बनाने में परेशानी हो रही है। इसलिए एक बार जातिगत जनगणना जरुरी है।

भाजपा का विरोध समझ से परे

सुनील कुमार पिंटू ने कहा कि 2014 से पहले तक भाजपा जातिगत जनगणना कराने के पक्ष में थी। यहां तक कि संसद सहित बिहार के दोनों सदनों से भी इस पर प्रस्ताव पारित हो चुका है। बिहार में तो भाजपा भी इस प्रस्ताव का समर्थन कर चुकी है। ऐसे में भाजपा नेताओं द्वारा जातिगत जनगणना का विरोध करना समझ से परे है। 



Find Us on Facebook

Trending News