झारखंड चुनाव: क्या अमित शाह आजसू की जिद से थे नाराज? आखिर 19 साल की दोस्ती क्यों टूट गई...

झारखंड चुनाव: क्या अमित शाह आजसू की जिद से थे नाराज? आखिर 19 साल की दोस्ती क्यों टूट गई...

RANCHI: झारखंड चुनाव में मुझे इतना और मुझे इतना सीट की पेंच में बीजेपी और आजसू की दोस्ती ऐसे फंसी कि 19 सालों से चला आ रहा राजनीतिक गठबंधन एक झटके में खत्म हो गया। दोनों ने अलग- अलग चुनावी राह पकड़ ली है। कल के दोस्त आज सियासी शतरंज पर आमने- सामने हो चुके हैं। बीजेपी ने सभी 80 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है।

आखिर क्यों टूटा गठबंधन?

 19 साल का संबंध सीटों को झपटने में एक झटके में खत्म हो गया। बता दें कि अब बीजेपी झारखंड में 80 सीटों पर अकेले ही चुनाव लड़ेगी। गौरतलब है कि जब से झारखंड की स्थापना हुई थी तब से बीजेपी और आजसू साथ मिलकर ही चुनाव लड़ते नजर आए हैं। गठबंधन टूटने से पहले बीजेपी ने अपने 53 प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी थी जबकि आजसू ने 12 प्रत्याशियों की। बताया जा रहा है कि आजसू 17 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती थी, जबकि बीजेपी उसे सिर्फ 10 सीट ही देना चाहती थी। मामला यहीं फंस गया। अंततः भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और उपाध्यक्ष ओम माथुर के साथ हुई बैठक में निर्णय लिया गया गया कि बीजेपी 80 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

आजसू से अमित शाह थे नाराज?

क्या वाकई अमित शाह आजसू और उसके सुप्रीमो से नाराज थे। सूत्र बताते हैं कि आजसू के ज़िद की वजह से गठबंधन के बीच सीटों को लेकर चल रहे जद्दोजहद से अमित शाह खफा थे। झारखंड के स्थापना काल से ही साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे आजसू को लगातार मनाने की कोशिश की जा रही थी कि आजसू 10 सीटों पर चुनाव लड़ ले। लेकिन आजसू लगातार अपने बड़े सहयोगी को बारगेन करने में लगी रही। इसी के तहत 12 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा भी कर दी गई।

 सीटों को लेकर आजसू के द्वारा लगातार किया जा रहा है हठयोग अमित शाह को नागवार गुजर रहा था और उसका अंततः इसका परिणाम यह हुआ कि झारखंड के सबसे पुराना गठबंधन टूट गया।

Find Us on Facebook

Trending News