कन्हैया ने बीजेपी पर बोला हमला, जो शहीद का सम्मान नहीं करते वो राष्ट्रवाद के ठेकेदार बने घूम रहे हैं

कन्हैया ने बीजेपी पर बोला हमला, जो शहीद का सम्मान नहीं करते वो राष्ट्रवाद के ठेकेदार बने घूम रहे हैं

PATNA: बेगूसराय के लोकसभा उम्मीदवार कन्हैया कुमार ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन लोगों को चुनावी रैली के कारण न पटना में और न ही बेगूसराय में शहीद पिंटू कुमार सिंह के प्रति सम्मान व्यक्त करना जरूरी समझा वे आज राष्ट्रवाद के ठेकेदार बने घूम रहे हैं. यही नहीं, जब सेना में जवान बेहतर सुविधाओं की मांग करते हैं तो उन्हें वही लोग देशद्रोही बताते हैं जो कॉलेज-विश्वविद्यालयों में फीस कम करने, स्कॉलरशिप की राशि बढ़ाने जैसे मसलों पर संघर्ष करने वालों को देश का दुश्मन बताते हैं.

आज कन्हैया कुमार ने बेगूसराय के कटहरी, कल्याणपुर महोब्बा, हरदिया, बांक, पचुरखी, तेतरी, मेंहां, बलदा, कटरमाला, राजोपुर आदि में आयोजित जनसंपर्क कार्यक्रमों में जनता को संबोधित किया। कन्हैया ने कहा कि ऐसे लोगों को देश से प्यार हो ही नहीं सकता जो देश की समस्याओं पर आवाज बुलंद करने वालों को चुप कराने की कोशिश करते हैं. लोकतंत्र संवाद से मजबूत बनता है और जो संवाद करने की जगह केवल अपने मन की बात सुनाते रहते हैं वे लोकतंत्र के शुभचिंतक नहीं हो सकते. कन्हैया ने कहा कि मेरा राष्ट्रवाद मुझे सिखाता है कि मैं किसी धर्म से नफरत करने के बजाय पिछले कुछ दशकों में गरीबी के कारण लाखों की संख्या में आत्महत्या कर चुके देश के किसानों की समस्याओं को दूर करने की कोशिश करूं. आज बेगूसराय के किसानों की समस्या यह है कि उन्हें फसलों की सही कीमत नहीं मिल रही है. यही नहीं, फलों, सब्जियों आदि को न्यूनतम समर्थन मूल्य के दायरे में शामिल नहीं करने के कारण बेगूसराय समेत देश के तमाम हिस्सों के किसानों को आर्थिक नुकसान सहना पड़ता है.

कन्हैया ने कहा कि बेगूसराय की धरती के बहुत उपजाऊ होने के बावजूद यहां जैविक खेती को विकसित करने और खेती की नई तकनीकों को बढ़ावा देने की दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है. जहां विज्ञान का इस्तेमाल देश को आगे ले जाने के लिए करना चाहिए था, वहां देश के प्रधानमंत्री शिक्षा और अनुसंधान के खर्च में कटौती कर रहे हैं. उनसे जलवायु परिवर्तन के बारे में पूछा गया तो उन्होंने वृद्धों को हर साल पहले की तुलना में ज्यादा ठंड लगने की बात कहकर जलवायु परिवर्तन को लोगों का भ्रम बता दिया था. कन्हैया ने कहा कि मेरे राष्ट्रवाद में उन करोड़ों युवाओं की चिंता शामिल है जिन्हें अपने शहर में पढ़ाई की अच्छी व्यवस्था नहीं होने के कारण बड़े शहरों में अपमान और गरीबी का सामना करते हुए पढ़ाई करनी पड़ती है. अगर शिक्षा पर बजट का दसवां हिस्सा खर्च किया जाए तो बेगूसराय ही नहीं बल्कि देश के सभी जिलों के युवाओं को इसका फायदा मिलेगा. कन्हैया ने कहा कि प्रधानमंत्री को नाले की गैस पर बनी चाय तो दिख जाती है लेकिन गटर की सफाई करते समय जान गंवाने वाले सफाईकर्मियों की तरफ उनका ध्यान नहीं जाता. 



Find Us on Facebook

Trending News