पशु तस्करी के सेफ जोन बन चुका कटिहार-बंगाल बॉर्डर, हर रात पुलिसवालों को इतनी होती है कमाई कि यकीन नहीं कर पाएंगे

पशु तस्करी के सेफ जोन बन चुका कटिहार-बंगाल बॉर्डर, हर रात पुलिसवालों को इतनी होती है कमाई कि यकीन नहीं कर पाएंगे

KATIHAR : बंगाल सीमा से सटे बिहार के कटिहार जिला "सीमांचल टू बंगाल" के लिए गौ-तस्करों का सेफ कॉरिडोर बना हुआ है, इस कॉरिडोर के माध्यम से पशु तस्कर बॉर्डर से सटे हुए थानों को मैनेज करते हुए तस्करी का यह खेल पिछले कई महीनों से चल रहा है। कटिहार से कत्लखाने तक गायों को पहुंचाने के लिए रात के अंधेरे में ट्रकों में लादकर मवेशियों को बिहार के सीमा पार मालदा जिला के कुमेदपुर बंगाल तक पहुंचा दिया जाता है, 

पशु तस्करों के माने तो बंगाल के कत्लखाने में इन पशुओं को कत्ल कर देश के अलग-अलग हिस्सों के साथ पड़ोसी देश बांग्लादेश तक भेजा जाता है, इस बड़े रैकेट का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि हर एक रात को हर एक गाड़ी पर लगभग पांच हज़ार के नजराना पशुओं से लदे गाड़ियों को बिहार सीमा पार कर बंगाल सीमा तक पहुंचाने के लिए पुलिस को दिया जाता है। 


बंगाल में बैठकर आका करते हैं मैनेज

कैमरे पर ही इन बातों को कबूलते हुए पशु तस्करों ने कहा कि उनके आका बंगाल में बैठकर ही यह सब मैनेज करते हैं और लगभग इसी इलाके से हर रात पशु से लदे बीस गाड़ी पार होता है यानी हर गाड़ी में अगर पुलिस को प्रति गाड़ी पांच हज़ार नजराना वसूलते है तो लगभग एक लाख रुपये का काला खेल पशु तस्कर हर रात खेलते हैं। दुःखद बात यह है कि कटिहार जिला बिहार के उप-मुख्यमंत्री सह पशुपालन मंत्री तार किशोर प्रसाद के गृह जिला है लेकिन फिर भी कटिहार पुलिस अपनी मोटी रकम कमाई के लिए तस्करी के इस खेल को धड़ल्ले से जारी रहने देता है। स्थानीय लोग भी पुलिस और तस्करों के गठजोड़ से ये खेल जारी रहने की चर्चा कर रहे हैं। कटिहार पुलिस ने कदवा थाना क्षेत्र के सागरथ के पास इस मामले में 2 लोगों के गिरफ्तारी के साथ साथ मवेशी लगे हुए ट्रक भी जप्त होने की बात कह रहे हैं।  

मगर इस  गिरफ्तारी के और मवेशी लगे हुए ट्रक पकड़े जाने के बावजूद एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है कि कहीं कटिहार पुलिस मामले को ठंडे बस्ते में डालने के लिए छोटी प्यादों को पकड़कर बड़ी मछलियों को तो नहीं बचा  रहा है। उम्मीद है "सीमांचल टू बंगाल" के पशु तस्करी के खेल से जुड़े  इस खबर के खुलासे को प्रशासन और सरकार में बैठे नुमाइंदे गंभीरता से लेंगे और बिहार बॉर्डर से सटे नजराना वसूलने वाले थानों के पुलिसकर्मियों के साथ-साथ इस रैकेट में शामिल सभी लोगों पर कड़ी कार्रवाई होगी ताकी सीमांचल के रास्ते पशु तस्करी के इस खेल पर पूर्ण रूप से अंकुश लगाया जा सके।

Find Us on Facebook

Trending News