केरल के मुख्यमंत्री पर लगा सोना तस्करी का आरोप, वाणिज्य दूतावास की सचिव ने खोला राज

केरल के मुख्यमंत्री पर लगा सोना तस्करी का आरोप, वाणिज्य दूतावास की सचिव ने खोला राज

DESK. सोना तस्करी के लिए बदनाम केरल में अब वहां के मुख्यमंत्री पर ही सोना तस्करी का आरोप लगा है. सीएम पिनराई विजयन पर यह आरोप लगाया है वाणिज्य दूतावास में सचिव रही स्वप्ना सुरेश ने जो खुद भी सोना तस्करी के मामले में फंसी हुई है. दरअसल, केरल में सोने की तस्करी मामले की आरोपी स्वप्ना सुरेश द्वारा मंगलवार को कोच्चि की एक अदालत में  मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के खिलाफ गंभीर आरोप लगाये जाने की सूचना है. कोर्ट में बयान देने के बाद मीडिया से बात करते हुए सुरेश ने कहा कि विजयन सोने की तस्करी मामले में शामिल थे. दावा किया कि जब विजयन 2016 में दुबई में थे, तब उन्हें पैसों से भरा बैग भेजा गया था.

स्वप्ना सुरेश के अनुसार उसने अदालत को मुख्यमंत्री, उनके पूर्व प्रमुख सचिव ए  शिवशंकर, विजयन की पत्नी कमला, बेटी वीना, निजी सचिव सीएम रवींद्रन, पूर्व नौकरशाह नलिनी नेट्टो और पूर्व मंत्री केटी जलील की गोल्ड स्मगलिंग केस संलिप्तता के बारे में जानकारी दी है. हालांकि CM पी विजयन ने इन आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताया.  समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार  स्वप्ना सुरेश ने बताया,  मैंने कोर्ट में 164 बयान दिये. अपनी जान को खतरा भी बताया. सुरेश ने कहा, मैंने कोर्ट में याचिका दायर कर सुरक्षा भी मांगी है. इस पर कोर्ट विचार कर रहा है.

स्वप्ना ने कहा, यह सब 2016 में शुरू हुआ जब मुख्यमंत्री संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा पर थे. जब मैं वाणिज्य दूतावास में सचिव थी तब शिवशंकर ने सबसे पहले मुझसे संपर्क किया था. उन्होंने मुझे बताया कि मुख्यमंत्री अपना एक बैग लेना भूल गये हैं और उसे तुरंत दुबई ले जाना है. हमने वाणिज्य दूतावास में एक राजनयिक के माध्यम से बैग को सीएम के पास भेजा. जब इसे वाणिज्य दूतावास में लाया गया तो हमने पाया कि इसमें करेंसी थी. इस तरह यह सब शुरू हुआ.

उन्होंने कहा कि शिवशंकर के निर्देशों का पालन करते हुए बिरयानी के भारी बर्तनों को महावाणिज्य दूतावास से मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास क्लिफ हाउस ले जाया जाता था. इनमें बिरयानी के अलावा अन्य भारी चीजें भी थीं. मैं अभी सब कुछ नहीं बता सकती.  समय आने पर मैं और खुलासे करूंगी.  स्वप्ना ने दावा किया कि हालांकि उसने केंद्रीय जांच एजेंसियों को विस्तृत साक्ष्य दिय़े, लेकिन अभी भी ऐसे क्षेत्र हैं जिनकी जांच की जरूरत है.


Find Us on Facebook

Trending News