केरल पेश करने जा रहा है नई नजीर, लैंगिक समानता को बढ़ावा देने के लिए पुलिस में शामिल किए जाएंगे किन्नर

केरल पेश करने जा रहा है नई नजीर, लैंगिक समानता को बढ़ावा देने के लिए पुलिस में शामिल किए जाएंगे किन्नर

DESK. कोच्चि. लैंगिक समानता को बढ़ावा देने की दिशा में केरल नई नजीर पेश करने की तैयारी में है. केरल में बहुत जल्द पुलिस विभाग में किन्नरों को शामिल किया जा सकता है. इसके लिए केरल सरकार और केरल पुलिस ने पहल शुरू की है और अगर सब कुछ सही रहा तो इसी वर्ष से केरल पुलिस में किन्नरों को सेवा देने का मौका मिला सकता है. 

केरल सरकार ने इसके लिए अनुशंसा एडीजीपी (कानून व्यवस्था) को सौंप दी है. एडीजीपी अब इसपर अपने समकक्षों से राय के लिए संपर्क करेंगे. बाद में इसे एडीजीपी के सम्मेलन में उठाया जाएगा. सूत्रों के अनुसार पुलिस मुख्यालय में शुरुआती कार्रवाई शुरू हो गई है. पुलिस प्रशिक्षण के लिए जिम्मेदार सशस्त्र पुलिस (एपी) बटालियन की राय भी ली जाएगी. 

हालाँकि केरल पुलिस में किन्नरों की भर्ती करना और उन्हें किस प्रकार की ड्यूटी दी जाए यह बड़ा मुद्दा बना हुआ है. भर्ती प्रक्रिया में किस प्रकार के नियम संशोधन हों और प्रशिक्षण के लिए उन्हें एकल रखा जाए या महिला अथवा पुरुष के साथ रखा जाए यह विभाग के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है. सूत्रों का कहना है कि पुलिस के लिए यह भी पेचीदा विषय है कि अगर किन्नरों को पुलिस में शामिल किया जाता है तो उन्हें किन क्षेत्रों में ड्यूटी दी जाए. 

विशेषज्ञ मानते हैं कि किन्नरों को लेकर जो सामाजिक सोच है उसे देखते हुए केरल सरकार और पुलिस के लिए कई विषयों पर सोचना होगा. इतना ही नहीं किन्नरों को किस कोटे के तहत शामिल किया जाए इस पर भी मंथन की जरूरत है. खासकर महिलाओं के लिए आरक्षित कोटे या किसी अन्य वर्ग के आरक्षित कोटे में किसी प्रकार का फेरबदल बड़ा मुद्दा बन सकता है. बावजूद इसके केरल सरकार का समाज के हाशिए के वर्ग को सशक्त करने का यह प्रयास अगर सफल होता है तो न सिर्फ देश बल्कि पूरी दुनिया के लिए अनुकरणीय होगा. 


Find Us on Facebook

Trending News