पूर्णिया में खूनी संघर्ष, महिलाओं के सामने ऑटो चालक को गोलियों से भूना, जवाब में दूसरे गुट के एक युवक की हत्या

पूर्णिया में खूनी संघर्ष, महिलाओं के सामने ऑटो चालक को गोलियों से भूना, जवाब में दूसरे गुट के एक युवक की हत्या

पूर्णिया।  अपराध प्रभावित गाँव मोजमपट्टी में फिर एक बार 2 गुटों के बीच खूनी संघर्ष की घटना सामने आई है, जिसमें दो लोगों की गोली मारकर हत्या  कर दी गई है। दोनो हत्या एक दूसरे के हत्या के प्रतिशोध में किया गया है। वारदात के बाद  इलाके में तनाव का माहौल व्याप्त है। 

घटना के संबंध में बताया जाता है कि मोजमपट्टी का रहने वाले अरुण यादव पेशे से ऑटो ड्राइवर था। वह गाँव के ही महिलाओं को लेकर बिहारीगंज बाजार जा रहा था। गाँव से बाहर निकलने के बाद बिहारीगंज जाने वाली मुख्य सड़क राजघाट के पास पहुंचा था, तभी हथियारबंद आधा दर्जन अपराधियो ने अरुण यादव को घेर लिया। जिसके बाद सभी महिलाओं को उतारकर नजदीक से गोलियों से छलनी कर दिया। जिससे घटना स्थल पर ही उसकी मौत हो गई। मृतक अरुण यादव कुख्यात बालो यादव गुट का समर्थक बताया जा रहा है।

जवाबी हमले में युवक की हत्या

हत्या की खबर जैसे ही बालो यादव गुट के लोगों को पता चली तो उनलोगों ने शिशवा गाँव मे आए बुच्चन यादव के चचेरे भाई के बेटे रुकसी कुमार को घेरकर गोली मार दी। दोनों की हत्या के बाद दोनों गुटों में काफी तनाव है कभी भी कोई अप्रिय घटना घट सकती है।


मालूम हो कि दोनों गुटों के आपसी गैंगवार में अब तक दर्जनों हत्या हो चुकी है। आज हुई घटना में मृतक अरुण यादव की पत्नी की हत्या भी फरवरी माह में गैंगवार में हो चुकी है। जिसका मुख्य अभियुक्त बुच्चन यादव का पुत्र साहिल सौरभ था, जिसे एसटीएफ ने पटना से गिरफ्तार किया था। इस कांड में खुद बुच्चन यादव का भी पैर बम से उड़ गया था, जिसके बाद बंगाल से गिरफ्तार कर उसे भागलपुर जेल भेजा गया था, जहाँ इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी।

फिलहाल घटना स्थल पर बी.कोठी थानाध्यक्ष सुनील कुमार और रघुवंश नगर ओपी अध्यक्ष महादेव कामती कैम्प किए हुए है।  वरीय अधिकारी सारे घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए है। अभी नवनियुक्त एसपी दया शंकर के पदभार ग्रहण किये 2 दिन ही हुए है और 2-2 मडर उनके लिए किसी चुनौती से कम नहीं 

Find Us on Facebook

Trending News