जिनके साथ सबसे लंबे समय तक काम किया, उन्हीं को पीएम मेटेरियल बताने पर सुशील मोदी ने जानिए क्या कहा

जिनके साथ सबसे लंबे समय तक काम किया, उन्हीं को पीएम मेटेरियल बताने पर सुशील मोदी ने जानिए क्या कहा

PATNA :  सीएम नीतीश कुमार हैं या नहीं यह सवाल बिहार की राजनीति के केंद्र में आ गया है। सभी नेता इस पर अपनी राय दे रहे हैं, कोई उन्हें अफगानिस्तान का प्रेसिडेंट बनने की सलाह दे रहा है, कोई उनसे अपनी दावेदारी साबित करने के लिए कह रहा है। इन सबके बीच जब इस मुद्दे पर नीतीश कुमार के सबसे अच्छे मित्र और सूबे के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी से पूछा गया तो उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ भी बोलना जरुरी नहीं समझा और सवाल का जवाब देने से किनारा कर लिया। जाहिर है कि सुशील मोदी ने भाजपा में किसी प्रकार का विवाद खड़ी करना चाहते थे और न ही अपने अच्छे दोस्त को यह कहकर निराश करना चाहते थे कि वह इस पद के योग्य नहीं हैं। बेहतर था कि इस पर चुप ही रहा जाए।

बिहार में एक वक्त था नीतीश कुमार और सुशील कुमार मोदी की जोड़ी सबसे ज्यादा चर्चा में रहती थी, जहां जहां नीतीश कुमार जाते, सुशील मोदी उनके साथ नजर आते थे। फिर पिछले साल विधानसभा चुनाव हुए, एनडीए की सत्ता में वापसी हुई। नीतीश कुमार फिर से मुख्यमंत्री बन गए। लेकिन डिप्टी सीएम का चेहरा बदल गया। सुशील मोदी की जगह तार किशोर प्रसाद और रेणु देवी ने ले ली। लेकिन जितने साल सुशील मोदी ने नीतीश कुमार के साथ काम किया, यह बताने में कोई गुरेज नहीं होना चाहिए कि जब बिहार में पीएम मेटेरियल की चर्चा जोरों पर है, तो सुशील मोदी अपने मित्र नीतीश कुमार को लेकर क्या सोचते हैं। लेकिन जब उनसे यह सवाल पूछा गया तो उन्होंने चुप्पी साध ली।

चर्चाओं को नहीं देना चाहते थे हवा

सुशील मोदी ने जिस तरह से पीएम मेटेरियल के मुद्दे पर अपना नजरिया स्पष्ट किया, उससे जाहिर है कि वह इस मुद्दे को ज्यादा हवा नहीं देना चाहते हैं। सुशील मोदी ने भाजपा में किसी प्रकार का विवाद खड़ी करना चाहते थे और न ही अपने अच्छे दोस्त को यह कहकर निराश करना चाहते थे



Find Us on Facebook

Trending News