केवाईसी सत्यापन का अनुरोध करने वाले धोखाधड़ी वाले कॉल या संदेशों से खुद को रखें सुरक्षित रखें, SBI ने बताए ये टिप्स...

 केवाईसी सत्यापन का अनुरोध करने वाले धोखाधड़ी वाले कॉल या संदेशों से खुद को रखें सुरक्षित रखें, SBI ने बताए ये टिप्स...

डेस्क... साइबर फ्राॅड का मामला आए दिन देखने को मिलता है। साइबर फ्रॉड पर रोक लगाने के लिए उपभोक्ताओं को हमेशा सतर्क रहने की अपील की जाती है। इसके अलावा पुलिस प्रशासन की ओर से भी अंकुश लगाने के लिए अभियान चलाया जाता है, लेकिन इसके बावजूद साइबर फ्रॉड में कोई कमी नहीं मिलती है। आलम यह होता है कि कई बार बैंक अधिकारियों के रूप में काम कर रहे जालसाजों ने लोगों को ठगा है। वे लोगों को फोन करते हैं और उसे बताते हैं कि उन्हें केवाईसी को वैध बनाने की जरूरत है, जालसाज ऑनलाइन प्रक्रिया को पूरा करने में मदद करने की बात कहते हैं और बैंक खाते में सेंध लगाते हैं।

इस पर अंकुश लगाने के लिए भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने केवाईसी सत्यापन का अनुरोध करते हुए धोखाधड़ी वाले कॉल के खिलाफ चेतावनी दी है। एसबीआई ने एक ट्वीट में कहा, केवाईसी सत्यापन का अनुरोध करने वाले धोखाधड़ी वाले कॉल या संदेशों से खुद को सुरक्षित रखें। बैंक ने यह भी कहा है कि ऐसी किसी फ्रॉड की सूचना तुरंत SBI को बताएं।

KYC वेरिफिकेशन क्या है?

केवाईसी का अर्थ है अपने ग्राहक को जानें। यह सुनिश्चित करने के लिए कि उनके ग्राहक वास्तविक हैं। इसलिए फोन, टेक्स्ट या ईमेल के माध्यम से सत्यापन करना सही नहीं है। इसलिए, यदि आपको केवाईसी सत्यापन के लिए कॉल या संदेश मिलता है तो याद रखें कि यह एक धोखाधड़ी कॉल है।

SBI ने इन फ्रॉड से बचने के लिए सात टिप्स बताएं हैं...

1) ओटीपी किसी के साथ साझा न करें

2) रिमोट एक्सेस एप्लीकेशन से बचें

3) अजनबियों के साथ आधार की कॉपी साझा न करें

4) अपने बैंक खाते में अपनी नई सम्पर्क डिटेल अपडेट करें।

5) बराबर अपना पासवर्ड बदलते रहें।

6) अपने मोबाइल और गोपनीय डेटा को किसी के साथ साझा न करें।

7) किसी भी लिंक पर क्लिक करने से पहले सोचें।

SBI ने कहा कि यदि आप अपने बैंक खाते में किसी भी अनधिकृत लेनदेन को नोटिस करते हैं, तो इसे तुरंत टोल-फ्री कस्टमर केयर नंबर - 18004253800, 1800112211 पर दर्ज करें। या फिर https://cybercrime.gov.in पर साइबर अपराधों की रिपोर्ट करें।

Find Us on Facebook

Trending News