लालू प्रसाद बोले- तेजस्वी और पत्नी राबड़ी देवी की वजह से हम जिंदा हैं, बहुत जल्द आयेंगे और पूरे बिहार का दौरा करेंगे

लालू प्रसाद बोले- तेजस्वी और पत्नी राबड़ी देवी की वजह से हम जिंदा हैं, बहुत जल्द आयेंगे और पूरे बिहार का दौरा करेंगे

पटनाः राजद अपने स्थापना का रजत जयंती मना रहा है। पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद ने आज दिल्ली से वर्चुअल माध्यम से 25 वें स्थापना दिवस कार्यक्रम का उदघाटन किया। वहीं पटना के प्रदेश कार्यालय में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव समेत अन्य नेता मौजूद रहे। पार्टी की स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में राजद नेताओं ने अपने संकल्प को दुहराया और केंद्र और बिहार की सरकार पर अटैक किया। कार्यक्रम के अंतिम में सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का संबोधन हुआ। दिल्ली से वर्चुअल माध्यम से लालू प्रसाद ने लोगों को संबोधित किया। लालू प्रसाद ने कहा कि बहुत जल्द हम बिहार आयेंगे और आप सब के बीच होंगे। 

तेजस्वी और पत्नी की वजह से हम जिंदा हैं-लालू

लालू प्रसाद ने कहा कि अगर तेजस्वी यादव और हमारी पत्नी नहीं होती तो हम वहीं रांची में ही मर जाते। हमको वहां से तुरंत प्लेन से लाया दिल्ली और एम्स में भर्ती कराया. अब हम ठीक हैं,थोड़ा बीमारी और रह गया है। हम बहुत जल्द आपके बीच आयेंगे। हम पटना आयेंगे इसके बाद पूरे बिहार का भ्रमण करेंगे। हम हर जिले में जायेंगे और लोगों से बात करेंगे। हमारा तेजस्वी तो तेज है हीं लेकिन हमारा बड़ा बेटा तेजप्रताप यादव का भी भाषण सुना उसके भाषण में दम है।

चहुंओर भ्रष्टाचार-लालू

लालू प्रसाद ने इस अवसर पर कहा कि वरिष्ठ नेता रहे हेगड़े जी कहने पर हमने दल का नाम राजद रखा। हमें समझ में नहीं आ रहा था कि अपने दल का नाम क्या रखें. तब हमने हेगड़े जी फोन किया । उनके कहने पर ही हमने अपनी नई पार्टी का नाम राष्ट्रीय जनता दल रखा। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी की स्थापना के बाद से हुए चुनाव में लगातार हमारा प्रदर्शन अच्छा रहा। एसेंबली चुनाव में हम तड़पते रह गये लेकिन हम बाहर नहीं आ पाये। हमारी बात तेजस्वी से होते रहती थी। तेजस्वी ने कहा कि आप चिंता मत करिए हम इन लोगों से निबट लेंगे। लालू प्रसाद ने कहा कि हमने बिना परवाह किये लाल कृष्ण आडवाणी को गिरफ्तार किया। हमारी सरकार को तो कुछ नहीं हुआ लेकिन केंद्र की बीपी सिंह की सरकार गिर गई। हमने वंचित समाज को ताकत दी। हमारे समय में पहली दफे वंचित समाज के लोग बूथ तक गये। हमने पांच-पांच प्रधान देखा और बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।  लालू प्रसाद ने कहा कि देश में महंगाई से लोग मर रहे हैं। पेट्रोल-डीजल का मूल्य ने घी को पीछे छोड़ दिया है। आगे कहा कि अब यह चर्चा होती है कि अयोध्या के बाद मथुरा। यह क्या बात है,आप क्या करना चाहते हैं. देश को तोड़ना चाहते हैं ये लोग। लेकिन हम लोग पीछे हटने वाले नहीं हैं। टूट जायेंगे-टूट जायेंगे लेकिन झुकेंगे नहीं। हमने रोटी को पलटने का काम किया तो हमारे शासनकाल को जंगलराज कहा जाने लगा।बिहार में भ्रष्टाचार और अपराध काफी बढ़ा हुआ है। ऐसा कोई दिन नहीं जब अलग-अलग स्थानों पर चार-पांच लोगों का खून नहीं होता है। हमारा बिहार काफी पीछे है। लाखो लोग प्रवासी बन गये हैं. लाखो लोग रोजी-रोजगार को लेकर बाहर जाते हैं. 

कमीशन के लिए मीटिंग करते हैं सीएम नीतीश 

तेजस्वी यादव ने कहा कि कोरोना काल में नीतीश कुमार लगातार मीटिंग ही करते रहे। मीटिंग जनता के लिए नहीं बल्कि कमाई के लिए करते थे। मीटिंग कमीशन के लिए....जांच में कमीशन,वेंटिलेटर में कमीशन,हर चीज में कमीशन के लिए मीटिंग करते थे। सूबे में सिर्फ घूसखोरी है। तेजस्वी यादव ने कहा कि जनता ने तो नीतीश कुमार की पार्टी को चौथा नंबर का बना दिया था लेकिन चुनाव आयोग ने इनकी पार्टी को तीसरे नंबर की बना दी। बीजेपी पर हमला बोलते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि आज तक बिहार में भाजपा को सीएम का चेहरा नहीं मिला। आज बिहार में जेडीयू-बीजेपी के बीच खेल चल रहा है। तेजस्वी ने कहा कि राजद माई की पार्टी नहीं ए-टू-जेड़ की पार्टी है। एक करोड़ 56 लाख वोट महागठबंधन मिला, एनडीए को एक करोड़ 56 लाख 12 हजार वोट मिला। अंतर सिर्फ 12 हजार का है। हमें हर समाज के लोगों ने वोट दिया। अगड़ा-पिछड़ा,अल्पसंख्यक सभी लोगों ने वोट दिया। जिन लोगों ने आपकी तरफ हाथ बढ़ाया है उसके हाथ को छोड़ना नहीं है। सबको साथ लेकर चलना है। विरोधियों की साजिश रहती है कि राजद को सिर्फ माई में निबटा दो।  तेजस्वी यादव ने कहा कि रोजगार के मुद्दे पर राजद आंदोलन करेगा। इसकी तैयारी में जुट जाइए,संघर्ष के लिए तैयार हो जाइए,आर्थिक न्याय की लड़ाई लड़ेंगे। तेजस्वी यादव ने पार्टी के भीतर रहकर खिलाफ में काम करने वाले नेताओं पर भी तल्ख तेवर अपनाते हुए प्रदेश अध्यक्ष से कार्रवाई करने का आग्रह किया।  


नीतीश जी ने आंख बनवा लिया-अच्छे से देख रहे होंगे

तेजस्वी यादव ने कहा कि हम बिना अध्ययन किये हम कोई काम नहीं करते। कोरोना टीका स्पुतनिक लगाने पर तेजस्वी ने कहा कि हम साईंटिफिट तरीके से काम करते हैं। हमने अध्ययन के बाद स्पुतनिक टीका लगाने का निर्णय लिया। हमने बोला क्या... मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए दिल्ली क्यों गये,क्या बिहार में डॉक्टर नहीं हैं। हमने यह सवाल नहीं उठाया। अब वे अच्छे से आंख बनवा लिये हैं तो अच्छे से देख रहे होंगे। कान की समस्या नहीं है,वे अच्छा से सुनते हैं. 

जगदानंद अंकल गुस्साये हुए हैं-तेजप्रताप

स्थापना दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए तेजप्रताप यादव ने प्रदेश नेतृत्व पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि जो जिम्मेदारी मिली है उसे पूरा करना चाहिए। पार्टी में कुछ लोग हैं जो दल को आगे बढ़ने देना नहीं चाहते। हम सच्चाई बोलते हैं लेकिन कुछ लोग सच्चाई सुनना नहीं चाहते। तेजस्वी यादव को सलाह देते हुए तेजप्रताप ने कहा कि जिला अध्यक्ष को जिम्मेदारी दें, एक गाड़ी की व्यवस्था करें। अगर रात में किसी गरीब को अस्पताल ले जाने की जरूरत हो तो वो ले जाये। तेजप्रताप यादव यहीं नहीं रूके, उन्होंने सभी लोगों से हाथ उठाया और कहा कि अगर हम सही बोल रहे तो हाथ उठाकर समर्थन दीजिए। सभी लोगों ने हाथ उठाया लेकिन प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने हाथ नहीं उठाया। इस पर तेजप्रताप यादव ने तंज कसते हुए कहा कि लगता है जगदानंद अंकल हमसे गुस्साये हुए हैं। उन्होंने कहा कि आंदोलन करिए गोली खाने के लिए हम तैयार हैं। राजद के कुछ नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि कुछ लोग पैर खींचने का काम करते हैं। आंदोलन में सिर्फ फोटो खिंचाने की काम करते हैं. 

नीतीश कुमार पर हंसी आती है- शिवानंद 

राजद स्थापना दिवस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि नीतीश कुमार को हम जानते हैं। वे बहुत ही तेज आदमी हैं। 2014 को याद कीजिए जब वे नरेंद्र मोदी का बखूबी चरित्र-चित्रण करते थे। आज क्या स्थिति है...उनकी जी हुजूरी कर रहे हैं। आज लोकतंत्र खतरे में है,मीडिया पर बैन लगा दिया गया है। बिना मीडिया की स्वतंत्रता के लोकतंत्र नहीं चल सकता। शिवानंद तिवारी ने आगे कहा कि आज हमें नीतीश कुमार पर हंसी आती है। आज की तारीख में मुगलों के अंतिम शासक बहादुर शाह जफऱ की याद आती है। तब उनकी बादशाहत लाल किले में कैद थी। नीतीश कुमार का शासन सिर्फ एक अणे मार्ग में चलती है। न इनकी बात मंत्री मानते हैं न अफसर। सिर्फ एक-अणे मार्ग में मुख्यमंत्री की बादशाहत है। इसीलिए बहादुर शाह जफर की याद आती है। 

शिवानंद तिवारी ने कहा कि आज बिहार की क्या स्थिति है। मंत्री के घर में अफसरों के ट्रांसफऱ की बोली लग रही है। जो अधिक बोली लगाता है उसे पोस्टिंग मिलती है। हर विभाग में यही स्थिति है। वहीं कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अब्दुल बारी सिद्दकी ने कहा कि स्थापना दिवस के दिन पार्टी को जेल भरो आंदोलन का निर्णय लेना चाहिए। क्यों कि महंगाई ने लोग त्राहिमाम कर रहे हैं। हर कोई परेशान है। ऐसे में राजद इस इश्यू को जोर-शोर से उठाये।  


Find Us on Facebook

Trending News