नेता प्रतिपक्ष व मुख्यमंत्री आमने-सामने ! नीतीश जी...आपकी नीयत ठीक नहीं, CM बोले- जो पियेगा सो मरेगा....हम और प्रचारित करेंगे

नेता प्रतिपक्ष व मुख्यमंत्री आमने-सामने !  नीतीश जी...आपकी नीयत ठीक नहीं, CM बोले- जो पियेगा सो मरेगा....हम और प्रचारित करेंगे

PATNA: बिहार विधानसभा में आज एक बार फिर से नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा और सीएम नीतीश आमने-सामने हो गये। बड़ी मुश्किल से विजय सिन्हा को बोलने का मौका मिला। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री जी....जहरीली शराब से छफरा में सैकड़ों लोग मर गये. सभी गरीब परिवार के थे। जरा जाकर वहां की हालत देखिए। आपने शराबबंदी लागू किया. आपकी नीयत सही नहीं है. इसी वजह से शराबबंदी लागू नहीं हो रहा। सत्ता के द्वारा बालू और शराब माफियाओं को संरक्षित किया जा रहा । ऐसे में कभी भी शराबबंदी सफळ नहीं हो सकती। नेता प्रतिपक्ष ने यहां तक कह दिया कि आप ये नहीं समझें कि आप हमेशा सत्ता में रहेंगे. आप इधर(विपक्ष) में भी जा सकते हैं. कल तक हम वहां थे, आज यहां है. जो आया है सो जायेगा। आप इस चक्कर में न रहें कि हमेशा सत्ता में ही रहेंगे। 

पहले विजय चौधरी ने दिया जवाब

इसके बाद ससंदीय कार्य मंत्री विजय चौधरी ने जवाब दिया. कहा कि जो मौतें हुई हैं उससे सरकार खुद मर्माहत है। इस तरह के की घटनाएं यह इस बात की पुश्टि करती हैं कि शराबबंदी लागू होनी चाहिए.भाजपा के लोग जो वहां गए थे, कितनी हास्यास्पद और दुखद है कि जो लोग भी वहां गए थे उन लोगों ने एक बार भी नहीं कहा कि शराब क्यों पीते हो? शराब से जान जाने का जोखिम होता है. लेकिन इन लोगों ने नहीं कहा. यही इनकी शराबबंदी के प्रति ईमानदारी है. सरकार कृत संकल्पित है कि जो लोग भी चाहे पुलिस पदाधिकारी हों या एक्साइज विभाग कितने भी बड़े अधिकारी क्यों न हो, जो भी दोषी होंगे सरकार सख्त कार्रवाई करेगी. कार्रवाई प्रारंभ हो चुकी है. सरकार ने बहुत ही पारदर्शी तरीके से कार्रवाई प्रारंभ कर दी है. सरकार की तरफ से हम इन्हें आमंत्रण देते हैं कि अगर अगर किसी की संलिप्तता की जानकारी हो तो सरकार को बताएं, हम इनकी सूचना पर कार्रवाई करेंगे. हम किसी को बचाना नहीं चाहते हैं.हर गलत करने वालों को कानून के हवाले करना नीतीश सरकार की पहचान है. हम लोग हर हाल में काम करेंगे.

वामपंथी विधायक ने भी उठाये गंभीर सवाल

विजय चौधरी के बाद सत्ता पक्ष भाकपा माले के एक विधायक ने शराबबंदी पर सवाल खड़े कर दिये. इसके बाद मुख्यमंत्री खड़े हो गये. सीएम नीतीश ने साफ कर दिया कि शराबबंदी कानून लागू रहेगी. जहरीली शराब पीकर जो मौत हुई है उसे हम और प्रचारित करेंगे। नीतीश कुमार ने भाजपा पर तेज हमला किया। उन्होंने कहा कि शराब पीने वालों की मदद की जाती है क्या....। पता चल गया ना कि गंदा पीते हो, जहरीली पीते हो तो मर ही जाओगे. जरा पता कर लीजिएगा ,जो अपने को समझते हैं. मुस्लिम समुदाय के धर्म को भी देख लीजिए, कोई धर्म मानने वाला भी इसे ठीक नहीं मानता है . राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने शराब को लेकर जो कहा है, उसे हमने एक एक घर में पहुंचा दिए हैं. अभी यह लोग (भाजपा) बोल रहा था, पहले हमारे पक्ष में बोलता था और आज यह उल्टा बोल रहा है . नीतीश कुमार ने कहा कि भाजपा शाशित राज्य में भी लागू है तो वहां पर क्या हो रहा है. अकेला राज्य बिहार है जो पूरे मजबूती से शराबबंदी की कोशिश कर रहा है. जहां कहीं भी अगर कोई अधिकारी गड़बड़ करता है तो उसको डिसमिस किया जा रहा है. हमने तो कहा है कि अगर कोई गड़बड़ करता है उसी को पकड़िए, गरीब तबके का आदमी इधर-उधर करता है तो उसको समझाइए कि सरकार पैसा देगी .

गुस्से में नीतीश

जरा सोचिए... दारु पीने से ने मरा जी...। जहरीली शराब है ना. उसके बारे में कभी समर्थन नहीं करना चाहिए. यह लोग कैसे बोल रहा है. यह लोग जब 2017 में साथ आए थे तो उसमें प्रधानमंत्री ने क्या कहा था... बड़ा अच्छा काम किया शराबबंदी लागू कर . जब हम अलग हो गए हैं तो यह लोग हंगामा कर रहा है. अब इन लोगों का क्या हालत हो गया है. अब तो हमलोग और बतायेंगे कि पियोगे तो मरोगे. हम लोग इसे और प्रसारित करेंगे। आजकल यह लोग जो बात बोल रहा है, किसी न किसी को अपने साथ करने के चक्कर में है.भाजपा के लोग कोशिश में हैं कि यह लोग आ साथ जाएं. नीतीश कुमार यह बताना चाह रहे थे कि शराबबंदी और जहरीली शराब की बात उठाकर भाजपा पॉलिटिकल लाभ लेना चाहती है। 

इतनी मौते के बाद भी नीतीश कह रहे-यहां कम है जहरीली शराब

सीएम नीतीश ने कहा कि सब आदमी सही हो नहीं सकता है, यह असंभव है. यहां आज भी जहरीली शराब कम है, जहां शराबबंदी लागू नहीं है वहां भी जहरीली शराब पीकर लोग मर रहे हैं. टॉप पर है मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश .सब जगह का देख लीजिए हिसाब किताब . मीडिया पर तंज कसते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि  इस तरह से जब दूसरे जगह मरता है तो काहे नहीं छापते हो। अब तो हम एक-एक जगह फिर से जाकर कहेंगे कि अगर कोई शराब के बारे में बोल रहा है तो यह कभी भी आपके हित में नहीं होगा. उल्टा बोल रहा है, झगड़ा कराने में लगा हुआ है.

मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि कोई विकास का काम हो रहा है? इस पर चर्चा होती है क्याय़  गुजरात में पुल गिर गया कितनी बड़ी संख्या में लोग मरे. 1 दिन खबर छपी. उसके बाद कुछ नहीं छपा. बंगाल में हुआ तो उसका कितना दिन चला. दारू पीकर जो मर जाएगा उसको हम मुआवजा देंगे?  यह संभव ही नहीं है. कभी मत सोचिए. अगर यही करना है सब मिलकर तय कर लीजिए .खूब कहिए कि शराब पियो.

वामपंथी विधायकों के शराबबंदी पर सवाल उठाने पर नीतीश कुमार ने कहा कि इस बात का ध्यान रखिए . कम्युनिस्ट पार्टी भी इसके पक्ष में है, शराब के सख्त खिलाफ में है. सीपीआई सीपीएम से मेरा पुराना संबंध है .हम जब चुनाव लड़ते थे तो यह लोग भी हमें मदद करते थे. आप लोग कभी गलत चीज पर मत सोचिएगा. उधर से जब एक विधायक खड़े होकर कुछ बोल रहे थे तब हम उठकर बोले हैं. वरना हमें क्या जरूरत थी बोलने की. लेकिन जब वामपंथी विधायक ने कुछ कहा तो हमें लगा कि स्थिति स्पष्ट कर देनी चाहिए। 

Find Us on Facebook

Trending News