स्कूल में भ्रष्टाचार का पाठ : 23 बच्चों को 37 गिनते हैं स्कूल के हेडमास्टर, जांच अधिकारी भी आंखू मूंदकर करते हैं भरोसा

स्कूल में भ्रष्टाचार का पाठ : 23 बच्चों को 37 गिनते हैं स्कूल के हेडमास्टर, जांच अधिकारी भी आंखू मूंदकर करते हैं भरोसा

BETIA : प.चम्पारण के लौरिया प्रखंड के मध्याह्न भोजन प्रभारी विद्यालय का कैसे करते है जांच हुआ खुलासा । 20उपस्थित बच्चो की जांच पंजी मे लिखते है 37 बच्चे उपस्थित वह सीधे लगभग दुगुना से थोडा कम । जहा सरकार विद्यालय की उपस्थिती के लिये शिक्षको को विद्यालय मे शिक्षा समिती की हर माह बैठक करा अभिभावको को विद्यालय भेजने को कहती है तो वही अपना नाम नही बताते हुए ग्रामीण ने बताया की यहा कभी शिक्षा समिती का बैठक होता ही नहीं है। लेट से विद्यालय खुलता है और समय पूर्व विद्यालय बंद भी हो जाता है । 

जांच अधिकारी ने मान ली हेडमास्टर की बात

आज जांच करने लौरिया प्रखंड के विद्यालय मध्याह्न भोजन प्रभारी राजकीय प्राथमिक विद्यालय सिरकहीया पहुचे तो विद्यालय मे मात्र 20 बच्चे उपस्थित थे और जांच पंजी मे 37 की उपस्थिती बना जा रहे थे तभी ग्रामिणो की भनक मिली और जांच  अधिकारी से जांच पंजी लेकर देखे तो सन्न रह गये और तभी वहा दर्जनो ग्रामीण पहुच मध्याह्न भोजन प्रभारी को गलत रिपोर्टिंग करने के लिये बंधक बना लिये और वरीय अधिकारी को सुचना दे बुलाने की मांग करने लगे।

बीईओ के सामने हेडमास्टर की बोलती हुई बंद

मामले में जांच अधिकारी और हेडमास्टर की करतूत को लेकर ग्रामीणों ने सीधे शिकायत बीईओ के पास कर दी। जिसके बाद खुद लौरिया प्रखंड विकास पदाधिकारी आदित्य दीक्षित भी गांव पहुंच गए। जहां उन्होंने सभी ग्रामीणों की शिकायत सुनी और लिखित में अपनी शिकायत सौंपने को कहा। इस दौरान बीईओ ने हेडमास्टर को भी तलब किया। अब तक स्कूल में 37 छात्रों की उपस्थिति की बात करनेवाले एचएम के सुर अधिकारी के सामने आते ही बदल गए और उन्होंने कबूल किया कि यहां 24 बच्चों का ही एमडीएम बनता है। ग्रामीणों ने बताया कि स्कूल में शिक्षक कभी भी समय से नहीं आते हैं। सुबह साढ़े सात बजे का स्कूल है, लेकिन नौ बजे तक कोई टीचर नहीं पहुंचता है।


Find Us on Facebook

Trending News