बिहार चुनाव प्रचार में लोकल के लिए वोकल होते दिखे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, सवा लाख करोड़ के पैकेज से पूर्वी बिहार को मिले एनएच और पुलों की याद दिलाई

बिहार चुनाव प्रचार में लोकल के लिए वोकल होते दिखे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, सवा लाख करोड़ के पैकेज से पूर्वी बिहार को मिले एनएच और पुलों की याद दिलाई

बिहार विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए पूर्वी  बिहार के पांच जिलों की 21 सीटों के मतदाताओं से वोट मांगने आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषण में लोकल पर भी खूब वोकल हुए। अंगिका में अपने उद्बोधन की शुरुआत करते हुए पीएम ने दानवीर कर्ण, चंपानगरी (भागलपुर का पुराना नाम), मंदार पर्वत, बाबा अजगैबीनाथ और शृंगी ऋषि का जिक्र किया। पवित्र भूमि के प्रणाम करै छियोन। इसके बाद पीएम चुनावी रौ में आ गए। भागलपुर सिल्क और गंगा नदी के अलावा किउल-कोसी नदी भी उनके जिक्र में आया। सवा लाख करोड़ के पैकेज से पूर्वी बिहार को मिले एनएच और पुलों की याद दिलाई।  

पीएम ने भागलपुर-मुंगेर का नाम यह याद दिलाते हुए लिया कि मुंगेर में रेल महासेतु चालू हो चुका है और विक्रमशिला के समानांतर फोर लेन पुल का अभी-अभी शिलान्यास किया गया है। हल्दिया-वाराणसी जलमार्ग से भागलपुर को होने वाले फायदे पीएम ने गिनाए। बोले, सस्ते और कम प्रदूषण वाले मार्ग का फायदा भागलपुर समेत गंगा किनारे बसे बिहार के हर शहर को होगा। गंगा पर हर 25वें किलोमीटर पर पुल या तो बन चुका है या बन रहा है। कोसी और किउल नदी पर भी पुलों का विस्तार हो रहा है। नए कृषि कानून से बिहार को भी फायदा होने का दावा किया। साथ ही कहा कि किसानों के अलावा पशुपालकों और मत्स्यपालकों के भले के लिए भी केंद्र की सरकार ने काम किया है। यहां के गोपालकों को कई फायदे हुए हैं। मनुष्यों की तरह पशुओं का आधार नंबर तैयार किया जा रहा है। पशुओं का मुफ्त टीकाकरण हो रहा है। मोबाइल एप तैयार किया गया है ताकि गोपालकों को सहूलियत हो। बता दें कि इलाके में बड़ी संख्या में लोग गोपालन से अपनी जीविका चलाते हैं। प्रधानमंत्री आखिर में त्योहारी खरीदारी में भागलपुर सिल्क को तवज्जो देने की वकालत की। कहा, सिल्क की साड़ियां खरीदिए। इस उद्यम से जुड़े लोगों को फायदा होगा। स्वरोजगार को बढ़ावा मिलेगा। 

पूर्वी बिहार में चुनाव 
पहले चरण में यहां बांका, मुंगेर, जमुई, लखीसराय जिले की 14 सीटों और भागलपुर जिले के दो सीटों कहलगांव और सुल्तानगंज पर चुनाव होना है। भागलपुर जिले की बाकी पांच सीटों पर दूसरे चरण में चुनाव होना है। पहले चरण की 16 सीटों में से दो अनुसूचित जाति और एक अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है। यही वजह रही कि पीएम ने आदिवासियों के कल्याण के लिए किए जा रहे काम भी गिनाए। दलितों, पिछड़ों और अतिपिछड़ों के उत्थान की बात भी पीएम ने कही। संभवत: उनका इशारा नक्सल प्रभावित क्षेत्रों की ओर था। 

Find Us on Facebook

Trending News