'आश्रम' पर RJD-JDU में महाभारत, नीतीश को CM की कुर्सी छोड़ आश्रम में जाने की सलाह पर भड़की JDU...

'आश्रम' पर RJD-JDU में महाभारत, नीतीश को CM की कुर्सी छोड़ आश्रम में जाने की सलाह पर भड़की JDU...

पटना. बिहार में महागठबंधन की सरकार बने अभी दो महीने भी नहीं हुए हैं कि राजद और जदयू में तकरार शुरू हो गयी है। दरअसल, राजद नेता शिवानंद तिवारी के एक बयान पर जदयू भड़क गयी है। जदयू के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने शिवानंद तिवारी पर पलटवार करते हुए कहा है कि सीएम नीतीश अभी आश्रम नहीं खोलने वाले हैं। करोड़ों देशवासियों की दुआएं उनके साथ है। आपको जरूरत है, तो कोई और आश्रम की तलाश कर लें।

यह विवाद राजद नेता शिवानंद तिवारी के एक बयान से जुड़ा है। राजद के राज्य परिषद की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने सीएम नीतीश से 2025 में कुर्सी छोड़ने की मांग की। साथ ही उन्होंने सीएम नीतीश को सहाल देते हुए कहा कि 2025 में सीएम की कुर्सी त्यागकर आश्रम खोले और मैं भी उस आश्रम का हिस्सा होऊंगा। उनके इस बयान के बाद बिहार में सियासत सरगर्मी तेज हो गयी। हालांकि बाद में इस बायन पर शिवानंद ने स्पष्टीकरण भी दिया है।

राजद नेता पर पलटवार करते हुए जदयू संसदयी बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, 'नीतीश कुमार जी अभी आश्रम नहीं खोलने वाले हैं। करोड़ों देशवासियों की दुआएं उनके साथ है, जो चाहते हैं कि नीतीश जी सत्ता के ऊंचे से ऊंचे शिखर पर रहते हुए बिहारवासियों के साथ देशवासियों की सेवा करते रहें। मुझको लगता है यदि आपको जरूरत है, तो कोई और आश्रम की तलाश कर लेनी चाहिए।'

हालांकि अपने बायन पर स्पष्टीकरण देते हुए राजद नेता शिवानंद तिवारी ने कहा, 'आज राज्य परिषद की बैठक में मेरे भाषण को लेकर कई लोगों को भ्रम हो गया है। नीतीश जी ने जो कहा है और जो उन्होंने कहा है वह अख़बार में छपा है। आज के हिंदुस्तान में छपी उस खबर की यह तस्वीर है। जहां तक आश्रम बनाने की बात है, वह भी हमलोगों के बीच की पुरानी बात है। कहां आश्रम बन सकता है इस पर भी कभी बात हुआ करती थी। उसी का स्मरण करते हुए मैंने 2025 के विधानसभा चुनाव के बाद आश्रम बनाने की बात कही थी। वैसे भी हिंदू धर्म में जीवन का चौथापन आश्रम में ही गुज़ारने की बात कही गई है।

दरअसल, मंगलवार को मीडिया के सवाल को जवाब देते हुए सीएम नीतीश ने फूलपुर लोकसभा सीट पर 2024 के लोकसभा चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था। उस दौरान उन्होंने भविष्य की राजनीति को लेकर कहा था कि मैं अपने लिए कुछ नहीं करता हूं। उन्होंने डिप्टी सीएम तेजस्वी की ओर इशारा करते हुए कहा था कि अब इन लोगों को आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा था कि अब मेरा क्या है। अब नयी पीढ़ी को बढ़ाने के लिए काम करना है। उनके इस बायन से बिहार में सियासत पारा चढ़ गया और बीजेपी ने इसको लेकर जदयू पर निशाना साधा।


Find Us on Facebook

Trending News