तेजस्वी यादव के सामने उपेंद्र कुशवाहा का सरेंडर, महागठबंधन में कम सीट पर भी समझौता को तैयार

तेजस्वी यादव के सामने उपेंद्र कुशवाहा का सरेंडर, महागठबंधन में कम सीट पर भी समझौता को तैयार

पटना : बिहार में चुनाव की सरगर्मियां तेज है. इसी बीच महागठबंधन को लेकर उपेंद्र कुशवाहा ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि महागठबंधन में चुनाव को लेकर ठोस रणनीति बनाने की जरूरत है. साथ ही माना कि महागठबंधन में सीट शेयरिंग में देरी की वजह से दिक्कत हो रही है. इसके अलावा उपेंद्र कुशवाहा ने कई अहम बयान दिया. आगे देखिए

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा है कि बिहार की जनता बदलाव चाहती है. ऐसे में इसको लेकर के ठोस रणनीति बनाने की जरूरत है और यह तभी संभव है जब खुद राजद सुप्रीमो इसमें हस्तक्षेप करें. उपेंद्र कुशवाहा ने जीतनराम मांझी के महागठबंधन से अलग होने पर कहा कि उन्हें नहीं जाना चाहिए था. उपेंद्र कुशवाहा ने माना कि बिहार में सीट शेयरिंग पर देरी हो रही है, जिसका बुरा प्रभाव पड़ रहा है.

महागठबंधन में रालोसपा की क्या भूमिका होगी. इस पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि सीट शेरिंग कोई मुद्दा नहीं है. 1-2 सीट कम भी अगर मिलता है, तो कोई बात नहीं है. बिहार में चुनाव को लेकर के तेजस्वी यादव से उनकी लगातार फोन पर बातचीत चलती रहती है


5 से 11 सितंबर तक रालोसपा मनाएगी शिक्षा सुधार सप्ताह

उपेंद्र कुशवाहा ने पार्टी कार्यालय में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कोरोना के संकट के बीच काफी लंबे वक्त के बाद वह प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बिहार में बदहाल शिक्षा व्यवस्था को लेकर रालोसपा ने लगातार आंदोलन चलाया है. उन्होंने यह भी कहा कि इस पूरे मुद्दे पर 25 सूत्री मांग सरकार को सौंपा था. लेकिन इस पर कोई अमल नहीं हुआ. अब वह चाहते हैं कि इस पूरे मामले महागठबंधन के सभी उम्मीदवार अपने घोषणा पत्र में शामिल करें. उपेंद्र कुशवाहा ने ऐलान किया है कि वह 25 सूत्री मांगों को लेकर 5 से 11 सितंबर तक शिक्षा सुधार सप्ताह आयोजित करेगी, जो पूरे बिहार बिहार के सभी जिलों और प्रखंडों में आयोजित होगा. इस पूरे कार्यक्रम का समापन 11 सितंबर को पटना में किया जाएगा. 

Find Us on Facebook

Trending News