मेडिकल और टूरिस्ट वीजा पर सालों पहले आए थे भारत, कानून का फायदा उठाकर बनवा लिया आवास प्रमाण पत्र

मेडिकल और टूरिस्ट वीजा पर सालों पहले आए थे भारत, कानून का फायदा उठाकर बनवा लिया आवास प्रमाण पत्र

कटिहार। पुलिस ने अवैध तरीके से भारत में रह रहे पांच अफगानी लोगों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा कि पकड़े गए सभी लोग कुछ साल पहले मेडिकल और टूरिस्ट लेकर भारत आए थे और यहां फर्जी तरीके से भारतीय दस्तावेज तैयार करवा कर रह रहे थे। पुलिस ने बताया पांचों अफगानी लोगों के साथ मामले में कुल सात लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज किया है।

इस कार्रवाई के बारे में पुलिस अधीक्षक विकास कुमार ने कहा  कि पकड़े गए सारे लोग अफगानिस्तान के सारण प्रान्त पकतिका के रहने वाले हैं। यह लोग कई वर्षों से टूरिस्ट और मेडिकल वीजा के आधार पर कटिहार नगर थाना क्षेत्र के चौधरी मोहल्ला में मोहम्मद मुनाजिर के घर में किराए के मकान में रह रहे थे, पुलिस को स्पेशल ब्रांच द्वारा सूचना दिए जाने के बाद छापेमारी कर पांचों को गिरफ्तार कर लिया गया और एक फरार रहने में सफल रहा है। पुलिस अधीक्षक ने पांचों लोगों की पहचान  मोहम्मद दाऊद, कमरान उर्फ राजा खान, फजल मोहम्मद उर्फ समुद खान, मोहम्मद रजा खान, गुलाम मोहम्मद के रूप में की है। 

बनवा लिया था फर्जी नागरिकता प्रमाण पत्र


 इन लोगों ने भारत में रहने के दौरान किशनगंज, कोलकाता और दरभंगा जिले से जुड़े हुए नागरिकता प्रमाण पत्र फर्जी तरीके से बना लिया था, जो पूरी तरह से फर्जी है।इसके अलावा इन लोगों के पास से भारत के ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड और बैंक अकाउंट से जुड़े कागजात, 5 लाख रुपए, 15 मोबाइल भी बरामद हुए हैं। साथ ही लगभग एक करोड रुपए के लेनदेन का दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं।सबसे बड़ी बात है इन लोगों के पास से कटिहार चौधरी मोहल्ले के आवास प्रमाण पत्र भी बरामद किया गया है। 

मकान मालिक भी संलिप्त

 पुलिस अधीक्षक के माने तो कागजातों को बनाने में मकान मालिक मुनाजिर हुसैन के संलिप्ता की बात भी सामने आई है, पुलिस और इंटेलिजेंट विभाग पूरे मामले को मनी लॉन्ड्रिंग से जोड़कर देख रहे हैं, हालांकि मामले की गंभीरता को देखते हुए एटीएस और इंटेलिजेंट विभाग द्वारा भी इस पर जांच की बात किया जा रहा हैं।

बता दें इससे पहले भी यह आरोप लगते रहे हैं अफगानिस्तान, बांग्लादेश से आए लोगों को फर्जी तरीके से भारत में बसाया जा रहा है। जिसमें कोलकत्ता सहित बिहार के कुछ शहरों से नकली दस्तावेज भी तैयार किए जाते हैं। कटिहार में हुई कार्रवाई ने इन आरोपों को सही साबित कर दिया है। 

Find Us on Facebook

Trending News