मुकेश सहनी की नीतीश सरकार से बड़ी मांग- बिहार में धान की रोपनी हुई कम, सूखाग्रस्त घोषित करें

मुकेश सहनी की नीतीश सरकार से बड़ी मांग- बिहार में धान की रोपनी हुई कम, सूखाग्रस्त घोषित करें

पटना. विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के प्रमुख और बिहार के पूर्व मंत्री मुकेश सहनी ने राज्य को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि राज्य में मानसून की बारिश सामान्य से काफी काम हुई है, जिस कारण कई जिले में धान की रोपनी तक नहीं हुई है। नालंदा के कई इलाकों का सोमवार को दौरा करने के बाद  वीआईपी के प्रमुख सहनी ने बताया कि आंकड़ों को देखें तो बिहार के बाढ़ प्रभावित तीन जिलों (सुपौल-अररिया और किशनगंज) को छोड़कर बाकी 35 जिलों में बारिश सामान्य से काफी कम है।

उन्होंने कहा कि 30 अगस्त 2022 तक राज्य में सामान्य बारिश 768.8 मिलीमीटर होनी चाहिए थी, लेकिन मात्र 471.9 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जो कि सामान्य से बहुत कम है। 'सन ऑफ मल्लाह' के नाम से चर्चित सहनी ने कहा कि राज्य में इस साल धन की रोपनी काफी कम हुई है, जहां हुई है वहां अब खेतों में दरारें फट रही हैं। उन्होंने कहा कि खाद की किल्लत और कालाबाज़ारी से भी किसानों को जूझना पड़ रहा है। खाद दोगुने दाम पर किसानों को खरीदना पड़ रहा है। 

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि वे राज्य का लगातार दौरा कर रहे हैं और जो स्थिति उभरी है उसमे भले सरकार 85 फीसदी रोपनी का दावा कर रही हो, लेकिन 40 प्रतिशत भी धान की फसल नहीं बचने  वाली है। सहनी नालंदा जिला के नगरनौसा थाना अंतर्गत कछियाम्बा गांव में उदिश प्रसाद बिन्द के आवास गए और शोकाकुल परिजनों से मुलाकात की। बिंद की धर्मपत्नी का पिछले दिनों  स्वर्गवास हो गया था। पूर्व मंत्री चंडी थाना के पुखरिया गांव भी गए जहां अभिमन्यु सहनी के शोकाकुल परिजनों से भी मिले।


Find Us on Facebook

Trending News