'सम्राट' के पॉलिटिकल प्रहार से बेदम हुए 'नीतीश' ! कहते थे.... BJP नेताओं के बयान का नोटिस नहीं लेते और आज बिना सवाल पूछे ही 'लड़का' को दिया जवाब

'सम्राट' के पॉलिटिकल प्रहार से बेदम हुए 'नीतीश' ! कहते थे.... BJP नेताओं के बयान का  नोटिस नहीं लेते और आज बिना सवाल पूछे ही 'लड़का' को दिया जवाब

PATNA: बीजेपी नेताओं के बयान का कोई मतलब नहीं . हम उनके बयान का नोटिस तक नहीं लेते। वे लोग मेरे खिलाफ बोलेंगे तो ऊपर वाला कुछ दे देगा. इन दिनों बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब भी मीडिया के सामने या किसी कार्यक्रम में बोलते हैं तो यह कहने से नहीं चुकते। दरअसल, सीएम नीतीश यह बताने की कोशिश करते हैं कि भाजपा नेताओं के बयान का उनके लिए कोई मतलब नहीं होता,उसका कोई वैल्यू ही नहीं। हम उनके बय़ान को सुनते या पढ़ते तक नहीं . लेकिन बीजेपी के एक लड़के के आक्रामक बयानों से नीतीश कुमार घायल हो गये हैं. तभी तो बिना पूछे ही मीडिया के सामने बीजेपी के लड़का के बारे में बोलने लगे। न सिर्फ बीजेपी के लड़का बल्कि उनके पिता के बारे में भी बोलने लगे। अब बड़ा सवाल यही है कि जब नीतीश कुमार भाजपा के किसी नेताओं के बयान को सुनते या पढ़ते ही नहीं तो फिर बीजेपी के सम्राट का बयान कैसे जान गय़े? आखिर उन्हें सार्वजनिक तौर पर जवाब देने की नौबत क्यों आई? 

'सम्राट' के पॉलिटिकल प्रहार से बेदम हुए 'नीतीश' !

बिहार विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी इन दिनों सीएम नीतीश के खिलाफ हमलवार हैं. पटना हाईकोर्ट द्वारा नगर निकाय चुनाव में अति पिछड़ा आरक्षण को गलत ठहराये जाने के बाद भाजपा ने सीएम नीतीश को अति पिछड़ा विरोधी करार दिया है। सम्राट चौधरी लगातार नीतीश कुमार के खिलाफ तल्ख टिप्पणी कर रहे हैं. बीजेपी नेताओं के नोटिस नहीं लेने की बात कहने वाले सीएम नीतीश आज बिना नाम लिये सम्राट चौधरी पर हमला बोला। उन्होंने सम्राट चौधरी को लड़का करार देते हुए कहा कि बीजेपी वाले लड़का का लाये हैं. वो कुछ-कुछ बोल रहा है। 

बीजेपी वाला लड़का लाया है-नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बीजेपी वाले कोई 'लड़का' को ला कर रखे हैं .वह क्या था..... पहले था आरजेडी में, फिर मेरे यहां आया जेडीयू में.अब गया है बीजेपी में.वह क्या कर रहा है... उसके पिता को कौन इज्जत दिया था, हम ही लोग ने दिए थे जी....। जब समता पार्टी बना था उस समय गांधी मैदान में.... उसी में न इंडिपेंडेंट थे तो शामिल कराये थे। जिसको हमने बहुत कुछ दिया है, वह भूल जाते हैं. क्या-क्या बोलते रहता है.... हमको तो समझ में नहीं आता .कुछ लोग बोलते रहते होंगे इस सोच में कि खूब पब्लिसिटी होगी.नीतीश कुमार ने कहा कि मीडिया पर केंद्र सरकार का नियंत्रण हो गया है.थोड़ा बहुत मेरा छाप दीजिएगा उसका एक तरफा चलता रहेगा.

नीतीश बोले- ये लोग ओबीसी विरोधी 

नीतीश कुमार ने पटना हाईकोर्ट द्वारा ईबीसी आरक्षण के मुद्दे पर नगर पालिका चुनाव रोकने को लेकर कहा कि हमारे यहां से फिर एक बार अनुरोध होगा कि इसको देख लीजिए .वहां पर तो कोई नया चीज लागू नहीं हुआ है. हाई कोर्ट, सुप्रीम कोर्ट सब ने अप्रूवल दिया था तो फिर नया चीज कैसे हो सकता है? लोग क्या करते हैं भाई? सारे लोग ओबीसी अति पिछड़ों के खिलाफ हो गए हैं? आज कुछ कुछ बोलते रहते हैं. यह 2006 से शुरू किया गया .2007 में नगर निकाय का चुनाव हुआ.सभी लोगों से राय मशविरा करके से लागू किया गया . बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि उस समय विभाग उनका था. जो कुछ भी किया गया उसके बाद चार बार पंचायत का और तीन बार नगर निकाय का चुनाव हुआ. इसके बारे में कुछ बोलना मुझे तो आश्चर्य होता है. क्या बात है भाई... कैसी-कैसी बातें करते रहते हैं लोग.

Find Us on Facebook

Trending News