नीतीश का जनता दरबार: जिसके घर गए मुख्यमंत्री उसका भी 28 वर्षों से भुगतान लंबित

नीतीश का जनता दरबार: जिसके घर गए मुख्यमंत्री उसका भी 28 वर्षों से भुगतान लंबित

पटना. मुख्यमंत्री के जनता दरबार में सोमवार को एक बार फिर फरियादियों का रैला उमड़ा. इसी क्रम में ऐसे फरियादी भी आए जिसके घर पूर्व में मुख्यमंत्री खुद गए थे लेकिन उसका भी भुगतान से सम्बंधित एक मामला 28 वर्षों से लटका है. 

गोपालगंज से आए एक फरियादी ने बताया कि पिछले 28 साल से उसका भुगतान लंबित है. उसने बताया कि सर्किट हाउस की मरम्मती का काम 1998 में उसके पिता ने कराया था. बाद में विभाग ने भुगतान लटका दिया तो मामला कोर्ट में गया. कोर्ट का निर्णय आने के बाद भी आज तक भुगतान नहीं हुआ. 2014 में उसके पिता की मृत्यु के बाद सीएम भी उसके घर गए थे. मुख्यमंत्री ने इस पर ताजुब्ब जताया और संबंधित विभाग को मामले को देखने का निर्देश दिया. 

नालंदा के इस्लामपुर के एक पंचायत से आए व्यक्ति ने बताया कि उसके वार्ड में अब तक गली नाली का निर्माण नहीं हुआ है. नीतीश कुमार ने अपने गृह जिले से मिली शिकायत पर अधिकारियों को गम्भीरता दिखाने का निर्देश दिया. 

अरवल से आए फरियादी ने कहा कि धान खरीद में अनियमितताएं हो रही हैं. शिकायत के बाद भी कोई अधिकारी कुछ नहीं कर रहे. फरियादी ने कहा कि किसी किसी व्यक्ति से 20 क्विंटल की जगह 98 क्विंटल धान की खरीद हुई. लखीसराय से आए एक फरियादी ने सड़क निर्माण में उसके जमीन के अनुदान का भुगतान नहीं करने की बात कही.


Find Us on Facebook

Trending News