एनिस्थिसिया नहीं, इस अस्पताल में हाथ पैर बांधकर और मुंह में टेप बांधकर किया जाता है मरीज का इलाज, नतीजा मरीज की हो गई मौत

एनिस्थिसिया नहीं, इस अस्पताल में हाथ पैर बांधकर और मुंह में टेप बांधकर किया जाता है मरीज का इलाज, नतीजा मरीज की हो गई मौत

MOTIHARI : मोतिहारी के एक निजी अस्पताल में मरीजों के हाथ पैर बांध कर इलाज होता है। इलाज के दौरान युवती की मौत के बाद  डॉक्टर और कर्मी भागने लगे। जब मरीज के परिजनों  ने उन्हें पकड़ने की कोशिश की तो उन्होंने उन पर  ही  हमला बोल दिया है। हमला में दो परिजनों को गंभीर चोटें आयी है। जिन्हें सदर अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। वही परिजनों की सूचना पर नगर थाना पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिये सदर अस्पताल लायी है। 

हाथ पैर और मुंह बांध कर इलाज करने का यह नायाब तरीका मोतिहारी के ओम साई अस्पताल का है। मामले में बताया गया कि पीपराकोठी थाना के जीवधारा किशुनपुर गांव की रहने वाली 18 साल की सोनी कुमारी को पेट दर्द की शिकायत थी। लेकिन एक दलाल के चक्कर में फंसकर इलाज के लिये मोतिहारी नगर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। पेट दर्द अपेंडिक्स के कारण हो रहा था। नतीजतन ऑपरेशन करना पड़ा। अस्पताल में तय राशि के अनुसार परिजनों ने 21 हजार रुपये जमा करा दिए। फिर स्थिति के खराब होने पर छह हजार रुपये और वसूले गए। फिर भी स्थिति में सुधार नही हो सका। मरीज युवती के हाथ पैर बांध कर और मुंह पर टेप साट कर इलाज किया जा रहा था। इस दौरान युवती की मौत हो गयी। इसकी भनक परिजनों को लगी तो अस्पताल कर्मियों ने शव देने के बदले एक कमरे में शव को बंद कर फरार होने लगे। लेकिन परिजनों के उन्हें पकड़ने की कोशिश की तो डॉक्टर और कर्मी उन्हें पीटने लगे।

भूंजा बेचकर चलता है परिवार का गुजारा

 मृतक की माँ गीता देवी ने बताया कि अपेंडिक्स के ऑपरेशन 19 अक्टूबर को किया गया। आज 23 अक्टूबर की शाम को मिलने के लिये कहने पर कर्मियों ने परिजनों के साथ मारपीट किया है। वहीं पीड़ित पिता रमेश प्रसाद ने बताया कि वे नेपाल में भुजा बेचकर परिवार चलते है। बेटी की तबियत खराब होने पर घर इलाज के लिये भेजा,जहां गांव के निवासी राजकुमार के कहने पर मोतिहारी नगर के अगरवा मुहल्ला मोड़ के ओम साई अस्पताल में भर्ती किया गया। जहां ऑपरेशन किया गया। इलाज में कोताही के कारण सोनी कुमारी की तबीयत खराब ही गयी। जिसके बाद उन्हें दूसरे अस्पताल में भेजने का कहने पर पर रुपये की मांग किया जाता रहा और ठीक हो जाने का अश्वासन दिया जाता रहा। इलाज के लिये उसके हाथ पैर को बांध दिया गया और मुंह को साट दिया।

चाकू से किया हमला

वहीं जख्मी मामा दीपक कुमार ने कहा कि कर्मियों ने चाकू से हमला कर भाग निकले। मामी बीना देवी ने कहा कि परिजनों ने पुलिस के आने पर अस्पताल के कमरे में बांध कर बंद किये गए सोनी कुमारी के शव को बरामद किया गया है। परिजनों के पूछने मात्र पर कर्मियों ने हमला कर जख्मी किया गया है।मोतिहारी नगर थाना पीस ने सूचना के बाद अगरवा मुहल्ला मोड़ के समीप ओम साई अस्पताल से युवती सोनी कुमारी के शव को बरामद किया है। 

शव की बरामद कर पोस्टमार्टम के लिये सदर अस्पताल लायी। नगर थाना के एएसआई धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि शव को बरामद कर लाया गया है। परिजनों के लिखित शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज किया जा रहा है। मृतक के हाथ पैर बंधने के सवाल पर कहा कि मामले की जांच किया जा रहा है।साथ ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही घटना को स्पष्ट किया जा सकता है। शव का दो डॉक्टरो की टीम से पोस्टमार्टम कराने के साथ फोरेंसिक जांच किया जाएगा। 

 

Find Us on Facebook

Trending News