LNMU के 50 वें स्थापना दिवस पर शिक्षा मंत्री बोले- विवि में पढ़ाई-लिखाई का मौहाल बनाने के लिए छात्र-शिक्षकों को रुचि लेनी होगी

LNMU के 50 वें स्थापना दिवस पर शिक्षा मंत्री बोले- विवि में पढ़ाई-लिखाई का मौहाल बनाने के लिए छात्र-शिक्षकों को रुचि लेनी होगी

दरभंगा. बिहार का ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय 5 अगस्त को 50 साल का हो गया है। 5 अगस्त 1972 को बिहार विश्वविद्यालय मुजफ्फरपुर से अलग कर इसकी स्थापना की गई थी। बाद में भूपेंद्र मंडल विवि मधेपुरा इससे अलग होकर अस्तित्व में आया। 

विवि की स्थापना के स्वर्ण जयंती समारोह का बिहार के शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने विवि की स्थापना में योगदान देने वाले लोगों को सम्मानित किया। कार्यक्रम में बिहार के श्रम संसाधन मंत्री जीवेश मिश्रा, नगर विधायक संजय सरावगी, बेनीपुर के विधायक विनय चौधरी, विधान पार्षद हरि सहनी और विवि के कुलपति प्रो. एसपी सिंह समेत कई गण्यमान्य लोग मौजूद थे।

विवि के जुबली हॉल में समारोह का उद्घाटन करते हुए शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि उन्हें बेहद खुशी होती है कि वे ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के स्थापना काल के छात्र रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह सुखद संयोग है कि वे कभी यहां के छात्र हुआ करते थे और आज बिहार के शिक्षा मंत्री के रूप में इसके 50वें स्थापना दिवस समारोह में शामिल हो रहे हैं।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि विवि में पढ़ाई-लिखाई और शोध का वातावरण तभी बन सकता है, जब छात्र कक्षाओं में पढ़ने आएं और शिक्षक पढ़ाने में रुचि लें। उन्होंने कहा कि राज्य के विवि में बिहार लोक सेवा आयोग के माध्यम से शिक्षकों की नियुक्ति हो रही है। साथ ही अतिथि शिक्षक भी आ रहे हैं। उन्होंने घोषणा की कि बिहार में ऐसी नीति बनाई जा रही है, जिसके तहत खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को नौकरी दी जाएगी।


Find Us on Facebook

Trending News