महंगाई, जीएसटी पर विपक्ष का संसद भवन परिसर में हंगामा, आप के संजय सिंह राज्यसभा से निलंबित

महंगाई, जीएसटी पर विपक्ष का संसद भवन परिसर में हंगामा, आप के संजय सिंह राज्यसभा से निलंबित

DESK. कांग्रेस एवं अन्य विपक्षी दलों के सांसदों ने महंगाई, कई खाद्य वस्तुओं को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लिए जाने का विरोध और अपने चार लोकसभा सदस्यों का निलंबन रद्द करने की मांग करते हुए बुधवार को संसद भवन परिसर में धरना दिया। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी तथा पार्टी के कई अन्य सांसदों ने संसद भवन परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष धरना दिया। 

मानसून सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित किए गए चार लोकसभा सदस्यों मणिकम टैगोर, टीएन प्रतापन, ज्योतिमणि और राम्या हरिदास ने ‘रघुपति राघव राजा राम...' भजन गाकर अपना विरोध जताया। उन्होंने हाथों में तख्तियां ले रखी थीं जिन पर कई खाद्य वस्तुएं के दाम लिखे हुए थे। कांग्रेस के कई सांसदों ने सदस्यों का निलंबन वापस लेने की मांग करते हुए नारेबाजी की। लोकसभा में विभिन्न मुद्दों पर हंगामे के दौरान तख्तियां दिखाकर प्रदर्शन करने और आसन की अवमानना करने के मामले में सोमवार को कांग्रेस के चार सदस्यों मणिकम टैगोर, टी एन प्रतापन, ज्योतिमणि और राम्या हरिदास को चालू सत्र की शेष अवधि के लिए सदन की कार्यवाही से निलंबित कर दिया गया था।


विभिन्न मुद्दों को लेकर विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही बुधवार को भोजनावकाश से पहले बाधित रही और दो बार के स्थगन के बाद बैठक दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। वहीं सदन में अशोभननीय आचरण को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) के सदस्य संजय सिंह को शुक्रवार तक के लिए निलंबित कर दिया गया। एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे बैठक शुरू होने पर उपसभापति हरिवंश ने घोषणा की कि मंगलवार को भोजनावकाश के बाद कार्यवाही के दौरान आप सदस्य संजय सिंह ने अशोभनीय आचरण किया था। 

हरिवंश ने कहा कि सिंह ने न सिर्फ सदन के नियमों की अवहेलना की बल्कि आसन के निर्देशों का भी उल्लंघन किया और कागज फाड़कर उनके टुकड़े आसन की ओर फेंके। उन्होंने कहा कि सिंह का आचरण सदन की गरिमा के विरूद्ध था। हरिवंश ने सिंह के खिलाफ नियम 256 लगाए जाने की घोषणा की। यह नियम किसी सदस्य द्वारा अशोभनीय आचरण करने पर उन्हें सदन से निलंबित किए जाने से संबंधित है। संसदीय कार्य राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने इस संबंध में एक प्रस्ताव पेश किया जिसे सदन ने ध्वनिमत से स्वीकार कर लिया। इसके बाद उपसभापति ने सिंह को सदन से बाहर जाने का निर्देश दिया लेकिन आप सदस्य सिंह सदन से बाहर नहीं गए। इस पर उपसभापति ने 12:03 बजे कार्यवाही 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी। दो बार के स्थगन के बाद 12:18 बजे जब उच्च सदन की बैठक शुरू हुई तो उपसभापति हरिवंश ने एक बार फिर सिंह को सदन से बाहर जाने का निर्देश दिया। लेकिन सिंह सदन से बाहर नहीं गए। व

हीं कुछ सदस्य तख्तियां लेकर आसन के समीप आ गए। सदन में व्यवस्था नहीं बनते देख उपसभापति ने बैठक दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले सुबह सदन की बैठक शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाए। इसके बाद उन्होंने सूचित किया कि कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे सहित आठ सदस्यों ने नियम 267 के तहत नोटिस दे कर नियत कामकाज स्थगित करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि ये नोटिस उन्होंने स्वीकार नहीं किए हैं। सभापति ने कहा कि सदस्यों का मुख्य मुद्दा महंगाई है और शून्यकाल के दौरान सदस्य इस मुद्दे पर अपनी अपनी बात रख सकते हैं। इस पर विपक्षी सदस्यों ने विरोध जताया और हंगामा शुरू कर दिया जिसके बाद सभापति ने 11 बज कर करीब सात मिनट पर ही बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी।


Find Us on Facebook

Trending News