भागलपुर में खतरनाक जंतुओं के मिलने से लोगों में दहशत, मंदिर के पास मिला रसेल वाइपर, गंगा नदी के किनारे दिखा मगरमच्छ

भागलपुर में खतरनाक जंतुओं के मिलने से लोगों में दहशत, मंदिर के पास मिला रसेल वाइपर, गंगा नदी के किनारे दिखा मगरमच्छ

BHAGALPUR : जिले के नवगछिया अनुमंडल के गोपालपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत लतरा गांव में बजरंगबली स्थान के समीप एक रसेल वाइपर पहुंच गया। सांप काफी जहरीला था, वह फुंफकार मार रहा था। ग्रामीणों की नजर जब सांप पर पड़ी तो सभी भागने लगे। लोगों ने कहा कि यह काफी जहरीला सांप है। डंसने के क्षण भर में ही किसी की मौत हो जाती है। स्थानीय लोगों ने पहले तो सांप देखकर अजगर कहा। लेकिन बाद में यह सांप बहुत ही खतरनाक एवं जहरीला सांप रसेल वाइपर के रूप में पहचान गया। 


स्थानीय लोगों ने काफी मशक्‍कत के बाद इसे पकड़ा और बाल्टी में बंद कर दिया। रसेल बाइपर मिलने की जानकारी मिलते ही लोगों ने पहले गोपालपुर थाने को जानकरी दी। जिसके बाद गाँव में पहुंचे वन विभाग के कर्मचारी ग्रामीणों द्वारा पकड़े सांप को सुरक्षित अपने साथ लेकर गए। वन्य प्राणी विशेषज्ञ ज्ञान चंद्र ज्ञानी ने बताया की भारत में लगभग 550 सांपों की ज्ञात प्रजाति है। कोबरा, करैत, रसेल वाइपर एवं पिट वाइपर काफी जहरीला सांप है। कोबरा अपने से कमजोर सांपों को अपना आहार बनाता है। कोबरा सबसे अधिक इंसानी आबादी के बीच रहता है। इसलिए लोग कोबरा को देखते ही मार देते हैं। 

हालाँकि उन्होंने कहा की कोबरा सांप का रहना बहुत जरुरी है। कोबरा बिना छेड़े नहीं डंसता है। करैत के डंसने का मामला अक्सर रात में सबसे अधिक पाया गया है। रसेल वाइपर किसी भी समय खतरा महसूस होने पर डंस सकता है। रसेल को आमलोग अजगर का बच्चा समझ लेते हैं। रसेल वाइपर की लंबाई चार फिट तक हो सकती है। इसके थूथन की लम्बाई-चौड़ाई मात्र 2 इंच है। चेतावनी के रूप में यह सीटी जैसा की आवाज निकालता है। अन्य सांपों की प्रजातियों के विपरीत यह 35 से 40 बच्चे को जन्‍म बरसात के बाद देती है। इसके जहर में हिमोटोक्सिन होता है। इस कारण किसी को डंसने के 10 सेकेंड बाद ही खून के थक्के बनना शुरू हो जाता है। रसेल के काटे अंगों में तेजी से सड़न शुरू हो जाती है। इसके काटने से अगर इंसान बच भी जाय तो दिव्‍यांगता निश्चित है।

वहीँ नवगछिया अनुमंडल के गोपालपुर प्रखंड अंतर्गत बटेश्वर स्थान के पास गंगा नदी किनारे विशाल मगरमच्छ को पानी से निकलकर बाहर आराम करते हुए देखा गया। बताया जा रहा है की वह पिछले कई दिनों से गंगा नदी में  विचरण करते हुए देखा जा रहा है। गंगा में मगरमच्छ देखने के कारण लोग नदी में स्नान करने से बच रहे हैं। इस बीच मगरमच्छ पानी से निकलकर बाहर आराम करते हुए दिखा रहे है, जिसका ग्रामीणों ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

भागलपुर से अंजनी कुमार कश्यप की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News