कचरे के अंबार से बजबजा रहा पटना, गली –मोहल्ले की स्थिति हुई नारकीय, निगम कर्मियों की हड़ताल से बिगड़े हालात

कचरे के अंबार से बजबजा रहा पटना, गली –मोहल्ले की स्थिति हुई नारकीय, निगम कर्मियों की हड़ताल से बिगड़े हालात

पटना. कचरे का ढेर, बदबू, गंदगी, बजबजाती नालियां और सडकें. कुछ ऐसी ही तस्वीर इन दिनों पटना की बन गई है. पटना नगर निगम कर्मियों की हड़ताल शहर की सूरत बिगाड़ दी है. हर गली-मोहल्ले की स्थिति नारकीय बनी हुई है. पिछले करीब 5 दिनों से शहर बदसूरत हो गया है तो आम लोगों को घरों का कचरा फेंकने के लिए भी सोचना पड़ रहा है. वहीं कई गली-सड़क- चौराहे पर गंदगी का अंबार नजर आ रहा है. 

दरअसल, पटना नगर निगम के सफाई कर्मचारियों की हड़ताल ने पटना की समस्या बढ़ा दी है. सफाई कर्मचारियों की ओर से 11 सूत्रीय मांग को लेकर 26 अगस्त से हड़ताल किया जा रहा है. इससे शहर के कई इलाकों में कचरा उठाव और सफाई प्रभावित हुआ है.हालांकि पटना नगर निगम का दावा है कि शहर में कचरा उठाने के कार्य हो रहा है. बावजूद इसके शहर की सडकों पर कूड़े का अम्बर आसानी से देखा जा सकता है. 

नगर निगम कर्मियों की मुख्य मांगों में नियमितीकरण, अनुकंपा बहाली, सामान काम सामान वेतन के साथ नगर निकायों में आउटसोर्सिंग खत्म करने का है. इसी को लेकर निगम कर्मियों ने पहले से ही हड़ताल पर जाने की चेतावनी दे रखी थी. हड़ताल के बाद भी कुछ इलाकों में सफाई व्य्व्यस्ता को सुचारू रखा गया है लेकिन उसके बाद ही शहर की सूरत संवर नहीं रही है. 

वहीं पटना नगर निगम द्वारा हड़ताल के दौरान भी शहर की सफाई व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए सभी अंचलों में कुल 26 टीम गठित की गई है. साथ ही सफाई में बाधा पहुंचानेवालों पर एफआईआर दर्ज कराई जाएगी. एनसीसी अंचल में पांच, बांकीपुर में चार, पाटलिपुत्र अंचल में पांच, अजीमाबाद में चार, बांकीपुर में चार, तथा कंकड़बाग और पटना सिटी में चार-चार टीम गठित की गई हैं. अलग-अलग अंचलों में कुल तीन लोगों पर एफआईआर दर्ज कराई गई है


इस बीच गंदगी और कूड़े का अम्बार बढने से शहर में मौसमी बिमारियों का खतरा भी बढ़ गया है. मच्छरों का प्रकोप बढने के साथ ही डेंगू जैसी बिमारियों की चिंता बढने लगी है. ऐसे में उचित सफाई नहीं होने और बारिश की वजह से बारिश एवं मच्छर जनित बिमारियों का खतरा बढ़ गया है.  



Find Us on Facebook

Trending News