पटना की सड़कों से 10 हजार ऑटो हो जायेंगे दूर,बड़ी संख्या में सरकारी गाड़ियां भी अब नहीं दिखेंगी

पटना की सड़कों से 10 हजार ऑटो हो जायेंगे दूर,बड़ी संख्या में सरकारी गाड़ियां भी अब नहीं दिखेंगी

PATNA: पटना में डीजल चालित ऑटो बैन की वजह से करीब 10 हजार टेम्पो सड़क से दूर हो जायेंगे।बिहार के परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि पटना और आसपास के क्षेत्रों में करीब 10 हजार डीजल चालित ऑटो को परमिट दिया गया है।हालांकि उन्होंने बताया कि सभी ऑटो पटना में हीं चल रहे हों ऐसा नहीं है बल्कि परमिट मिलने के बाद बहुत लोग देहाती इलाकों में भी ऑटो चलाते हैं।

उन्होंने कहा कि पहले चरण में पटना नगरनिगम,खगौल,दानापुर और फुलवारीशरीफ नगरपरिषद क्षेत्र में डीजल चालित ऑटो को प्रतिबंधित किया जा रहा है।यह प्रतिबंध पटना नगरनिगम क्षेत्र में 1 फरवरी 2021 और बाकी के तीन नगरपरिषद क्षेत्रों में 1 अप्रैल 2021 से लागू किया जाएगा।

बिहार कैबिनेट की बैठक के बाद बिहार के परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने बताया कि पहले चरण में इन क्षेत्रों में सफलतापूर्वक लागू किए जाने के बाद फिर मुजफ्फरपुर और अन्य शहरों में डीजल चालित ऑटो को प्रतिबंधित किया जाएगा। प्रदूषण नियंत्रण पर्षद द्वारा प्रदूषण लेवल बढ़ने की रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें---डीजल-पेट्रोल चालित टेम्पो को CNG में बदलवाने के लिए सरकार देगी पैसा,जानिए.. किस वाहन के लिए सरकार की तरफ से कितनी मिलेगी राशि

उन्होंने बताया कि वर्तमान में अभी पटना नगर निगम,खगौल,दानापुर और फुलवारी नगरपरिषद क्षेत्र में 15 साल पुरानी व्यवसायिक वाहनों को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित किया गया है।इन इलाकों के अलावे बिहार के बाकी हिस्सों में 15 साल पुरानी व्यवसायिक गाड़ियां चलेंगी।

अनुदान पर खर्च होंगे 30 करोड़ रू

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि सरकार ने बिहार स्वच्छ ईंधन योजना-2019 की स्वीकृति दी है।इसमें डीजल चालित ऑटो को सीएनजी कीट में बदलने पर सरकार अनुदान देगी।इस मद में 30 करोड़ रू खर्च होंगे।


Find Us on Facebook

Trending News