पीके को आई CM नीतीश कुमार की याद, कहा- उनके साथ फिर काम करना चाहता हूं

पीके को आई CM नीतीश कुमार की याद, कहा- उनके साथ फिर काम करना चाहता हूं

PATNA : देश के सबसे बड़े चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर एक बार फिर से बिहार के सीएम नीतीश कुमार के साथ काम करना चाहते है। सियासी गलियारे में पीके के नाम से प्रसिद्ध इस रणनीतिकार ने एक निजी चैनल के साथ बातचीत के दौरान उक्त बातें कही हैं।

दरअसल, प्रशांत किशोर से ये पूछा गया कि देश में सबसे बेहतर नेता कौन हैं, तो इस सवाल का जवाब उन्होंने नहीं दिया. लेकिन जब प्रशांत किशोर के सामने यह विकल्प दिया गया था कि किन नेताओं के साथ फिर से काम करना पसंद करेंगे। जिसमें ऑप्शन में पीएम मोदी, सीएम नीतीश कुमार व पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह में से किसी एक को चुनना था। पीके ने इनमें से नीतीश कुमार को चुना। 

BJP को हराने के लिए बताई इसकी जरुरत

बातचीत के दौरान प्रशांत किशोर ने आगामी लोकसभा चुनाव और विपक्ष की मजबूती पर भी प्रशांत ने अपनी राय रखी. प्रशांत किशोर ने कहा कि मोदी को हराने के लिए 4 M की जरूरत है. ये चार एम हैं मैसेज, मैसेंजर, मशीनरी और मैकेनिक।  उन्होंने कहा कि बिना कांग्रेस के सशक्त विपक्ष की संभावना कम है, हालांकि सिर्फ दलों को इकट्ठा करके बीजेपी से जीत नहीं सकते. 

बता दें कि प्रशांत किशोर पहले भी नीतीश कुमार के खासमखास रहे हैं. जनता दल यूनाइटेड के वे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे हैं. पीके को नीतीश कुमार के उत्तराधिकारी के तौर पर भी देखा जाने लगा था। लेकिन पार्टी के दूसरे वरिष्ठ नेताओं को उनकी मौजूदगी ज्यादा रास नहीं आ रही थी। रही सही कसर तब पूरी हो गई सीएए और एनआरसी पर नीतीश कुमार के स्टैंड के खिलाफ जब प्रशांत ने खुलकर बोलना शुरू कर दिया। दोनों के बीच मतभेद इतने गहरा गए कि नीतीश कुमार ने यहां तक कह दिया कि अमित शाह के कहने पर प्रशांत किशोर को पार्टी में शामिल किया था. इसके बाद उन्होंने कहा था कि 'उन्हें जब तक मन हो रहें या पार्टी छोड़कर जा सकते हैं।


Find Us on Facebook

Trending News