फिरोजपुर के अति संवेदनशील इलाके में रुका था पीएम मोदी का काफिला, यहां से भारत पाक बॉर्डर की दूरी महज 50 किलोमीटर

फिरोजपुर के अति संवेदनशील इलाके में रुका था पीएम मोदी का काफिला, यहां से भारत पाक बॉर्डर की दूरी महज 50 किलोमीटर

DESK : प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की आज पंजाब के फिरोजपुर में चुनावी सभा थी। जहाँ जाने के दौरान एक पुल पर अचानक पीएम मोदी का काफिला रुक गया। 20 मिनट तक उनका काफिला पुल पर ही फंसा रहा। इस दौरान उनकी सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों की साँसे टंगी रही। दरअसल फिरोजपुर जिले के अंदर मुदकी के पास नेशनल हाईवे पर जिस जगह प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी को रुकना पड़ा, वह हाईली सेंसेटिव जोन है। यहां से इंडो-पाक इंटरनेशनल बॉर्डर महज 49 किलोमीटर दूर है। 

भारत-पाकिस्तान इंटरनेशनल बॉर्डर के नजदीक बसे होने की वजह से फिरोजपुर पंजाब का बेहद संवेदनशील जिला है। इस एरिया में लगातार टिफिन बम और अन्य विस्फोटक पदार्थ मिलते रहे हैं। जिस जलालाबाद कस्बे में 15 सितंबर 2021 में ब्लास्ट हुआ, वह भी फिरोजपुर के नजदीक है। बताया जा रहा है की जलालाबाद ब्लास्ट के बाद NIA द्वारा टिफिन बम सप्लाई करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया गुरमुख सिंह रोडे इसी एरिया में मोगा जिले के रोडे गांव का रहने वाला है, जो जरनैल सिंह भिंडरावाले की जन्मस्थली है। भिंडरावाले का भतीजा और लंबे समय से पाकिस्तान में शरण लेकर बैठा खालिस्तान की हिमायत करने वाला लखबीर सिंह रोडे भी इसी इलाके का है। 

बताया जा रहा है की प्रधानमन्त्री के कार्यक्रम की जानकारी करीब 10 दिन पहले ही मिल गयी थी। इसके बावजूद आज प्रधानमन्त्री की सुरक्षा में चुक का मामला सामने आया है। हालाँकि बताया जा रहा है की आज प्रधानमन्त्री को भटिंडा एयरपोर्ट पर उतरने के बाद हेलीकाप्टर से चुनावी सभा में जाना था। लेकिन मौसम खराब होने की वजह से सड़क मार्ग से जाने का फैसला किया गया। इसके लिए पंजाब पुलिस ने एसपीजी को यह रूट बताया था। हालाँकि इस घटना के बाद प्रधानमन्त्री ने कहा की अपने मुख्यमंत्री को कहना की उनकी वजह से जिन्दा लौट पाया हूँ। वहीँ मुख्यमंत्री चरण जीत सिंह चन्नी ने इस घटना पर खेद प्रकट करते हुए कहा सुरक्षा में कोई चुक नहीं हुई है। 

Find Us on Facebook

Trending News