24 घंटे में सियासत ने ली करवट : पूर्व विधायक ने राजद में जाने का विचार त्यागा, सीएम से मुलाकात ने बदल दी सोच

24 घंटे में सियासत ने ली करवट : पूर्व विधायक ने राजद में जाने का विचार त्यागा, सीएम से मुलाकात ने बदल दी सोच

PATNA : बिहार की सियासत में हर दिन कुछ नया देखने को मिलता है। जहां बुधवार को गोपालंगज के बैकुंठपुर से पूर्व विधायक मंजीत सिंह ने तेजस्वी यादव से मुलाकात कर राजद में शामिल होने की घोषणा की थी। वहीं, महज 24 घंटे में सियासत ने ऐसा रंग दिखाया कि उन्होंने राजद में शामिल होने का अपना फैसला वापस ले लिया। 

बताया गया कि मंजीत सिंह के जदयू छोड़ने के निर्णय को रोकने के लिए खुद सीएम नीतीश कुमार ने पहल की थी। कभी उनके करीबी नेताओं में रहे मंजीत सिंह विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने से नाराज चल रहे थे। जिस कारण उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला लिया था। लेकिन, सीएम किसी भी स्थिति में नहीं चाहते थे कि वह पार्टी छोड़कर जाएं। लिहाजा, गुरुवार को दिन भर पटना से गोपालगंज तक मान मनौव्वल का दौर जारी रहा। खुद पार्टी नेता लेसी सिंह उन्हें मनाने गोपालगंज गईं थी, जिनके साथ वह कल शाम पटना लौटे।

सीएम से एक घंटे की मुलाकात के बाद बदला फैसला

गुरुवार को पटना आने के बाद मंजीत सिंह ने सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की। लगभग एक घंटे की मुलाकात के बाद मंजीत सिंह एक बार फिर जदयू में शामिल होने के लिए तैयार हो गए हैं। सीएम से मुलाकात के बाद मंजीत सिंह ने कहा कि वे नीतीश कुमार के नेतृत्व में जदयू को मजबूती देने के लिए काम करेंगे। मंजीत सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हमारे अभिभावक हैं। विधानसभा चुनाव में पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर वे निर्दलीय लड़े थे। लेकिन गुरुवार की भेंट में मुख्यमंत्री जी ने वही पुराना स्नेह दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके पिता ब्रजकिशोर बाबू समता पार्टी के संस्थापकों में एक थे और उनके साथी विधायक रहे हैं।

दरअसल मंजीत के राजद में जाने की घोषणा के बाद तड़के सरकार में मंत्री लेसी सिंह मंजीत के गोपालगंज स्थित आवास पहुंचीं। कुछ घंटे बाद पूर्व मंत्री जयकुमार सिंह भी मंजीत के घर पहुंचे। दोनों ने जदयू और नीतीश कुमार से उनके रिश्तों का हवाला दिया और सीएम से मुलाकात के लिए उन्हें पटना लाए। इससे पहले बुधवार को उन्होंने तेजस्वी यादव से मिलकर 3 जुलाई को राजद ज्वॉइन करने की घोषणा की थी। लेकिन अब उन्होंने अपना फैसला वापस ले लिया है। अब उन्हें फिर से जदयू की सदस्यता दिलाई जाएगी।



Find Us on Facebook

Trending News