प्रमंडलीय आयुक्त ने एनएमसीएच के अधिकारियों के साथ की बैठक, कोरोना को लेकर दिए कई निर्देश

 प्रमंडलीय आयुक्त ने एनएमसीएच के अधिकारियों के साथ की बैठक, कोरोना को लेकर दिए कई निर्देश

PATNA : पटना के प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल पटना में कोविड-19 पॉजिटिव एवं गर्भवती महिलाओं के प्रसव की सफल सुचारू एवं सुरक्षित प्रसव की संचालित व्यवस्था की प्रगति का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जायजा लिया. इस मौके पर उन्होंने अस्पताल के प्राचार्य, अधीक्षक तथा स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग के अध्यक्ष एवं डॉक्टर के साथ बैठक की तथा आवश्यक निर्देश दिया. प्रमंडलीय  आयुक्त ने बताया की कई स्थानों से फीडबैक मिल रहा है कि ऐसी महिलाएं जिनकी डिलीवरी होनी है. उन्हें चिंता रहती है कि कही वे कोविड पॉजिटिव हो जाए तो कहां जाएंगे. इसीलिए यह पूरी व्यवस्था की गई है ताकि वे चिंतित नहीं रहे. 

26 कोविड पाजिटिव गर्भवती महिलाओं NMCH में हुआ सुरक्षित प्रसव 

कोविड के दौरान कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं के प्रसव की विशेष व्यवस्था एनएमसीएच में की गई है. इस संबंध में एनएमसीएच के स्त्री एवं प्रसूति विभाग के अध्यक्ष डॉ रेणु रोहतगी ने बैठक में जानकारी दी कि कोविड के दौरान कुल 26 कोरोना पाजिटिव गर्भवती महिलाओं का प्रसव किया गया है. जिसमें से 20 सिजेरियन एवं 6 सामान्य प्रसव कराए गए हैं. विदित हो कि नालंदा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल कोविड मरीजों के लिए डेडीकेटेड कोविड हास्पीटल के रूप में कार्यरत है. 

कोविड मानक के एहतियाती सुरक्षात्मक उपायों का सख्ती से पालन का निर्देश

इस दौर में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते  हुए जच्चा बच्चा की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखने तथा सफल एवं सुरक्षित प्रसव कराने का निर्देश दिया गया. आयुक्त ने डॉक्टर नर्स एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को भी अस्पताल में कोविड-19 मानक संबंधी सुरक्षात्मक उपायों का  पालन करने को कहा. बैठक में अवगत कराया गया कि माता के पॉजिटिव होने के बावजूद भी नवजात शिशु के पॉजिटिव होना कोई जरूरी नहीं है. यदि शिशु पॉजिटिव भी होता है तो उसके भी उपचार की भी व्यवस्था है. आयुक्त ने नवजात शिशु की विशेष देखरेख एवं निगरानी का भी निर्देश दिया है. साथ ही यथा आवश्यक एहतियात के साथ रखने का भी निर्देश दिया गया.

लेबर रूम इमरजेंसी 24×7 कार्यरत

 एनएमसीएच के अधीक्षक ने बताया है कि कोविड पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं के लिए 24×7 लेबर रूम खुला रहता है. इमरजेंसी एवं ओपीडी का कार्य राउंड दी क्लॉक चलता रहता है. अगर किसी गर्भवती महिला को कोई कठिनाई हो तो वह लेबर रूम इमरजेंसी में संपर्क कर सकती है. 

डॉक्टर नर्स की पालीवार हुई है तैनाती

इस कार्य के सफल, सुचारू एवं सुरक्षित संचालन हेतु एनएमसीएच के लेबर रूम इमरजेंसी एवं ओपीडी में पालीवार पर्याप्त संख्या में डॉक्टर एवं नर्स की प्रतिनियुक्ति की गई है. पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं के प्रसव हेतु न केवल नॉर्मल डिलीवरी की व्यवस्था है. बल्कि सिजेरियन ऑपरेशन की व्यवस्था है. सिजेरियन ऑपरेशन हेतु योग्य, कुशल एवं विशेषज्ञ डॉक्टर कार्यरत है. 

अधीक्षक को प्रभावी मॉनिटरिंग का दिया निर्देश

आयुक्त ने पॉजिटिव महिलाओं की स्थिति को ध्यान में रखते हुए कार्य किए प्रभावी मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया है. बैठक में जिलाधिकारी पटना, एनएमसीएच के प्राचार्य, अधीक्षक, स्त्री एवं प्रसूति विभाग के अध्यक्ष एवं डॉक्टरगण तथा आयुक्त कार्यालय में क्षेत्रीय विकास पदाधिकारी, क्षेत्रीय प्रोग्राम प्रबंधक पटना प्रमंडल सहित कई अन्य अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से संबद्ध थे. 

पटना से विवेकानंद की रिपोर्ट


Find Us on Facebook

Trending News