चंपारण का नाम गलत लिखने पर राहुल गाँधी पर भड़के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, कहा अविलंब मांगे माफ़ी

चंपारण का नाम गलत लिखने पर राहुल गाँधी पर भड़के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, कहा अविलंब मांगे माफ़ी

PATNA : बीते दिनों राहुल गाँधी द्वारा ट्वीटर के जरिये में दिल्ली में जारी किसान आंदोलन की चंपारण सत्याग्रह से तुलना करने पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने उन्हें पहले चंपारण शब्द की स्पेलिंग सीखने की सलाह दी. अपने जवाबी ट्वीट में उन्होंने लिखा कि प्रिय राहुल गाँधी अपना गोयबल्स मार्का ज्ञान देने से पहले चंपारण शब्द लिखना तो सीख लेते. चंपारण के हमारे किसान नए कृषि कानूनों को आपसे बेहतर जानते हैं. कृपा कर अपने झूठ में हमारे क्षेत्र का नाम न घसीटें. गौरतलब हो कि राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में चंपारण की स्पेलिंग को गलत लिखा था. इसी ट्वीट में आगे डॉ जायसवाल ने चंपारण सत्याग्रह पर एक लिंक साझा करते हुए राहुल गाँधी को इस आंदोलन के बारे में पढने का आग्रह किया.

राहुल पर हमला जारी रखते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने एक दुसरे ट्वीट में लिखा कि चंपारण सत्याग्रह 'विदेशियों' के खिलाफ 'देश' का संघर्ष था और किसान आंदोलन ‘क्यों’, ‘कैसे’ और 'किसके' लिए किया जा रहा है, यह देश भलीभांति जानता है. इस ट्वीट के साथ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने एक मीडिया संस्थान द्वारा किसान आंदोलन पर करवाए गये सर्वे का लिंक देते हुए, राहुल गाँधी को जनभावना से परिचित होने की सलाह दी.  

 इस विषय पर डॉ जायसवाल ने कहा की यह हर कोई जानता है कि देश में राहुल गांधी से बड़ा कंफ्यूज नेता कोई नहीं है. इसी कंफ्यूजन में किए गये अपने ट्वीट में उन्होंने चंपारण के लिए ‘चंपारन’ शब्द का इस्तेमाल किया है. इससे साफ़ पता चलता है कि वह चंपारण सत्याग्रह के महत्व से परिचित नहीं है. चंपारण न केवल बापू की कर्मभूमि रही है बल्कि हमारी मातृभूमि भी है. चंपारण का नाम गलत लिखना और इसे राजनीति में घसीटना सीधे-सीधे चंपारण का अपमान है, जिसे हमारी जनता कभी भी पसंद नहीं करने वाली. चंपारण का निवासी और जनप्रतिनिधि होने के नाते मेरी राहुल जी से मांग है कि अपनी झूठ-फरेब की राजनीति में चंपारण जैसे ऐतिहासिक स्थल का नाम खींचने के लिए अविलंब माफ़ी मांगे.

पटना से विवेकानंद की रिपोर्ट


Find Us on Facebook

Trending News