राज्यसभा में पीएम ने विपक्ष पर किया तंज - जब देश कोरोना काल से जूझ रहा था, कुछ लोग मजाक उड़ा रहे थे

राज्यसभा में पीएम ने विपक्ष पर किया तंज - जब देश कोरोना काल से जूझ रहा था, कुछ लोग मजाक उड़ा रहे थे

DESK : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राज्यसभा में आज राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद भाषण दिया। उन्होंने राष्ट्रपति के अभिभाषण  को नई उमंग, इस दशक से लिए मार्ग प्रशस्त करनेवाला रहा है। उन्होंने कहा कि इस दौरान 50 से अधिक लोगों ने अपनी बात रखी, इस दौरान उन्होंने इस बात पर निराशा भी जाहिर कि कई सांसदों ने उनके भाषण को नहीं सुना। लेकिन इसके बाद भी उनकी बात सभी लोगों तक पहुंची। यह इस दशक का उनका पहला भाषण था।

आज भारत नए संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है, आज देश के युवा इन अवसरों को गंवाना नहीं चाहता है। आज हम अपनी आजादी के 75वें साल में प्रवेश कर रहे हैं, जिसें प्रेरणा का पर्व के मनाने की जरुरत है, ताकि जब देश आजादी के सौंवा साल मनाए तो हम नई ऊंचाइयों पर होंगे। आज पूरे विश्व की निगाहें हम पर हैं.

मैथिली शरण की कविता का जिक्र करते हुए कहा कि अवसर तेरे लिए खड़ा है, फिर भी तू चुपचाप पड़ा हैं तेरा कर्म क्षेत्र बड़ा हैं पल-पल है अनमोल अरे भारत उठ आंखे खोल, अगर 21वीं शताब्दी के आरंभ में होते लिखते अवसर तेरे लिए खड़ा हैं तू आत्मनिर्भर से भरा पड़ा है, हर बाधा-बंदिश को तोड़, अरे भारत आत्मनिर्भरता के पथ पर दौड़

आज कोरोना के कारण कोई किसी ने मदद नहीं की। भारत के लिए पूरी दुनिया ने चिंता जाहिर  की, सबने कहा कि भारत ने इसे नहीं संभाला, तो बहुत बड़ा संकट हो जाएगा, देश में भी लोगों ने डराया, लेकिन भारत ने अपने देश के नागरिकों की रक्षा के लिए अनजाने दुश्मन से लड़ने के लिए नए तरीके के साथ आगे बढ़ा, नए रास्ते खोजने थे, नए रास्ते बनाने थे, उस समय जो भी बेहतर लगा उसके साथ आगे बढ़े, आज सभी लोग इसकी तारीफ कर रहे हैं, आज हिन्दुस्तान के लोग इस बात पर गर्व कर सकते हैं, इस देश ने किया है, इस पर गर्व करने में कोई बुराई नहीं। एक गरीब से गरीब व्यक्ति भारत के इस कदम का साथ खड़ा था। दीया जलाकर सभी ने देश नें सामूहिक शक्ति का प्रदर्शन किया, लेकिन उसका भी मजाक उड़ाया गया। पीएम ने कहा विरोध करने से कोई लाभ नहीं होता है

देश के कोरोना वॉरियर्स ने जिस तरह से काम किया, उन पर गर्व करना चाहिए। पूर्व में कई बिमारियों में ऐसी स्थिति आई, लेकिन आज हम इसे कामयाब बनाने में सफल रहे। बेहद कम समय में हमने वैक्सीन बनाया, दुनिया के सामने उदाहरण पेश किया। आज हम दुनिया में सबसे बड़े टीकाकरण अभियान चला रहे हैं, जिस पर गर्व करने का आवश्यकता है। आज कोरोना ने दुनिया ने भारत के रिश्ते को नई ताकत दिया है, जब दवा नहीं थी तब भी भारत ने डेढ़ सौ देशों में दवा पहुंचाई और आज कई देशों में वैक्सीन पहुंचाई जा रही है। हमारे भारत ने जो कमाया है, उस पर गर्व करना चाहिए।

भारत ने इस कोरोना काल में अंतरभूत ताकत की पहचाना। केंद्र और राज्यों ने मिलकर बताया कि इस संकट को कैसे निपटा जा सकता है. यह सभी ने देखा है।





Find Us on Facebook

Trending News