लंदन फिल्म फेस्टिवल में दिखाई जाएगी बिहार के कटिहार में बनी 'राम हाफिज', स्थानीय कलाकारों को मिलेगी पहचान

लंदन फिल्म फेस्टिवल में दिखाई जाएगी बिहार के कटिहार में बनी 'राम हाफिज', स्थानीय कलाकारों को मिलेगी पहचान

KATIHAR : 1971 में भारत-बांग्लादेश विभाजन पर समरेश बसु द्वारा लिखे गए कहानी "खुदा हाफिज" को स्क्रीन प्ले के लिए रूपांतरित कर कटिहार के कलाकार और डायरेक्टर के निर्देशन मैं एक फिल्म बनाया गया है,स्क्रीन प्ले यानी फ़िल्म के तौर इस फ़िल्म का नाम "राम हाफीज" रखा गया है, 22 मिनट के यह लघु फिल्म अब 20 दिसंबर को लंदन फिल्म फेस्टिवल में प्रदर्शित होगा, इसके अलावा जल्दी यह फिल्म एक ओटीटी प्लेटफार्म पर रिलीज किया जाएगा। 

बड़ी बात यह है विभाजन पर बनी इस फिल्म के दोनों मुख्य कलाकार के अलावे कैमरे के आगे और पीछे फिल्म से जुड़े सभी लोग कटिहार से ही है, अब विश्व के मंच पर इस फिल्म के प्रदर्शित होने की तैयारी को लेकर इस फिल्म से जुड़े कलाकार बेहद खुश हैं, कटिहार नाट्यशाला में आगे के तैयारी के दौरान इन कलाकारो ने इस फ़िल्म से जुड़े विषय और अन्य बिंदुओं पर भी अपने बाते रखी।

बांग्लादेश विभाजन की कहानी

फिल्म में काम करनेवाले आलोक व रितेश ने बताया यह फिल्म बांग्लादेश विभाजन के समय को दिखाती है। फिल्म में मुख्य रूप से दो कलाकार हैं। जिनके इर्द गिर्द पूरी कहानी बुनी गई है। उन्होंने बताया कि लंदन फिल्म फेस्टिवल के अलावा इसे दूसरे फिल्म फेस्टिवल में भी भेजने की तैयारी है। वहीं जिस तरह से इस लघु फिल्म को सराहना मिल रही है, उसके बाद उम्मीद जताई जा रही है इस तरह के और लघु फिल्मों का स्थानीय स्तर पर निर्माण किया जाएगा।

Find Us on Facebook

Trending News