कल से सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों में लौटेगी रौनक, सुनाई देंगे कक्षा बदलने की घंटियों की आवाज

कल से सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों में लौटेगी रौनक, सुनाई देंगे कक्षा बदलने की घंटियों की आवाज

स्कूल के मैदानों में बच्चों की भागदौड़ और प्रातः कालीन मैं स्कूल की प्रार्थना भी गूंजेगी

CHHAPRA : कोविड-19 अनलॉक के तहत अब स्कूलों को धीरे-धीरे खोलने का आदेश जारी होने लगा है। पहले फेज में 11 और 12 तक की कक्षाओं को खोलने का आदेश दिया गया था । सात अगस्त से हाई स्कूलों की नौवीं और दसवीं कक्षा में पठन-पाठन शुरू करने का भी आदेश जारी कर दिया गया है। जैसे ही यह आदेश जारी हुआ सरकारी व प्राइवेट स्कूलों ने तैयारी शुरू कर दी। कहीं रंग रोगन का कार्य हो रहा है तो कहीं सैनिटाइजेशन और डेस्क बेंच को दुरुस्त करने का काम। निश्चित है की शनिवार से स्कूल खुलेंगे। स्कूलों में करीब 2 साल के बाद रौनक लौटेगी। बच्चों का भाग दौड़ दिखेगा । स्कूल की घंटियां सुनाई देंगे। मॉर्निंग असेंबली का प्रार्थना सुनाई देगा। पर यह सब कुछ अभी कुछ शर्तों के बीच रहेगा क्योंकि अभी भी कोविड-19 का प्रकोप खत्म नहीं हुआ है अभी तीसरे चरण का प्रकोप आने की संभावना बनी हुई है। ऐसे में कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए ही स्कूल खुलेंगे और स्कूलों का संचालन भी होगा।

क्या कहते हैं स्कूल संचालक

स्कूल संचालकों ने स्कूल के खोले जाने को लेकर सरकार के निर्णय का स्वागत किया है लेकिन सरकार की खिंचाई भी की है। संचालकों का कहना है कि हजारों लोगों को बर्बाद करने के बाद यह निर्णय लिया गया है जब सारे सरकारी स्कूलों में सभी कार्य हो सकते है तो प्राइवेट स्कूलों में क्यों नहीं? नेट वर्ल्ड स्कूल के संचालक जमाल अहमद ने बताया कि शिक्षकों का भविष्य बर्बाद हुआ है छात्रों का भी भविष्य बर्बाद हुआ है। ओएसिस पब्लिक स्कूल के संचालक संजय कुमार का कहना है कि स्कूलों को बंद कर दिया जाने से छात्रों का भविष्य काफी बर्बाद हुआ है। सरकार को कुछ और दिन पहले स्कूलों को खोल देना चाहिए था ।साथ ही जो शिक्षक उस में पढ़ाते थे उनके लिए अनुदान की घोषणा करनी चाहिए थी । हजारों की संख्या में शिक्षक फल सब्जी बेचने को मजबूर हो गए हैं तो कोई ऑटो चलाने को मजबूर हुआ है आखिर में इसकी भरपाई कौन करेगा। एसएसपी सेंट्रल स्कूल की प्राचार्य पांडे का कहना है कि बच्चों का भविष्य तो ऐसा बर्बाद हुआ है कि बच्चे वन टू 5 तक जो भी पढ़े थे वे इन 2 सालों में लगभग भूल चुके हैं।

16 अगस्त से 1 से 8 कक्षा में गूंजेगी बच्चों की आवाज

नाइंथ और 10th में पठन-पाठन तो 7 अगस्त से ही शुरू हो जाएगा। लेकिन कक्षा 1 से 8 तक में पठन-पाठन 16 अगस्त से शुरू हो जाएगा। इसके लिए भी आदेश जारी हो चुका है। सरकार ने भी नियमों का कड़ाई से पालन करते हुए स्कूल का संचालन कराने का आदेश दिया है। इधर डीएम ने सरकार के आदेशों को सख्ती से लागू कराने के लिए कई आवश्यक दिशा निर्देश जारी कर दिया है। स्कूल खुलने की तिथि से 1 दिन पहले स्कूल के कोने कोने का सैनिटाइजेशन कराना होगा। सभी शिक्षक व कर्मी कोविड-19 का टीका लिए रहेंगे । जो शिक्षक व कर्मी कोविड-19 का टीका नहीं लेंगे उन्हें स्कूल या कार्यालय में प्रवेश नहीं दिया जाएगा । इसके अलावा कई और आदेश जारी किए गए हैं।

Find Us on Facebook

Trending News