उत्तर प्रदेश में बनी राइफलों से होगी देश की रक्षा, एके-203 असॉल्ट राइफलों का होगा उत्पादन

उत्तर प्रदेश में बनी राइफलों से होगी देश की रक्षा, एके-203 असॉल्ट राइफलों का होगा उत्पादन


नई दिल्ली. भारत को रक्षा विनिर्माण में आत्मनिर्भरता देने की दिशा में उत्तर प्रदेश बड़ा हिस्सेदार बनने जा रहा है. केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश के अमेठी के कोरवा में पांच लाख से अधिक एके-203 असॉल्ट राइफलों के उत्पादन की योजना को मंजूरी दी है.

7.62 X 39mm कैलिबर AK-203 राइफल्स को 3 दशक से अधिक समय पहले शामिल की गई इन-सर्विस इन्सोस राइफल की जगह बदला जाएगा.  AK-203 असॉल्ट राइफल 300 मीटर की प्रभावी रेंज के साथ, हल्के वजन और सिद्ध तकनीक के साथ काम करेगा. आधुनिक असॉल्ट राइफल्स उपयोग करने में आसान हैं जो सैनिकों की युद्ध क्षमता को बढ़ाएगी.

सूत्रों की मानें तो यह परियोजना एक विशेष उद्देश्य के तहत संयुक्त उद्यम में इंडो-रूसी राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा कार्यान्वित की जाएगी. इसे भारत के तत्कालीन ओएफबी (अब एडवांस्ड वेपन्स एंड इक्विपमेंट इंडिया लिमिटेड और मुनिशन इंडिया लिमिटेड) और रूस के रोसोबोरोनएक्सपोर्ट (आरओई) और सी.कलाश्निकोव के साथ बनाया गया था. 


देश के सैन्य बलों और पुलिस के अधुनिकिरण के लिए उन्हें उन्नत और आधुनिक हथियार उपलब्ध कराने की जरूरत लम्बे समय से महसूस की जा रही है. इसके लिए केंद्र सरकार की ओर से हाल के वर्षों में कई पहल हुई है. इसी क्रम में उत्तर प्रदेश में एके-203 असॉल्ट राइफलों के उत्पादन की योजना को मंजूरी देने की बात कही जा रही है.

हालांकि इस मंजूरी को राजनीतिक रूप से भी देखा जा रहा है. खासकर उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के पूर्व अगर इसे जमीनी स्तर पर शुरू कर दिया जाता है तो यह आने वाले विधानसभा चुनाव में चुनावी मुद्दा भी बन सकता है. वहीँ रक्षा विशेषज्ञों की मानें तो एके-203 असॉल्ट राइफलों के उत्पादन की योजना को मंजूरी मिलने से देश में रक्षा विनिर्माण की दिशा में क्रांतिकारी बदलाव होगा. 

Find Us on Facebook

Trending News