शरद यादव के निधन के कारण राजद का बड़ा फैसला, मकर संक्रांति पर अब नहीं होगा दही चूड़ा भोज

शरद यादव के निधन के कारण राजद का बड़ा फैसला, मकर संक्रांति पर अब नहीं होगा दही चूड़ा भोज

पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव के निधन के कारण राजद ने अपना दही-चूड़ा भोज स्थगित कर दिया है. राजद की ओर से सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दी गई. राजद की ओर से शुक्रवार को कहा गया कि 'राजद के वरिष्ठ नेता आदरणीय शरद यादव जी के असामयिक दुःखद निधन के कारण कल दिनांक 14/01/23 को राबड़ी आवास ,पटना में मकर संक्रांति के अवसर पर आयोजित दही चूड़ा भोज स्थगित कर दिया गया है।' शरद यादव का गुरुवार रात दिल्ली में निधन हुआ. उनके निधन पर राजद सहित कई अन्य दलों के नेताओं ने शोक व्यक्त किया. 

पटना के राबड़ी आवास में इस साल तीन साल के बाद मकर संक्रांति पर दही चूड़ा भोज हो रहा था. इसकी तैयारी भी शुरू हो गई थी. बिहार के सभी विधानमंडल सदस्यों को इसका आमन्त्रण दिया गया था. लेकिन अब शरद के निधन के कारण अंतिम समय में इसे स्थगित कर दिया गया. शरद के निधन पर लालू यादव ने भी शोक जताया. राजद सुप्रीमो ने कहा कि जब वे राजनीति गुमनामी से बाहर निकलने के लिए संघर्ष कर रहे थे, तब उन्होंने मदद के लिए हाथ बढ़ाया था। उन्होंने सिंगापुर से ही शरद यादव के निधन पर एक वीडियो शेयर करते हुए अपने राजनीति के शुरूआती दिनों को याद किया। राजद सुप्रीमो ने कहा उनके निधन की दुखद खबर ने मर्माहत कर दिया है। शरद यादव, नीतीश कुमार और मुलायम सिंह यादव के साथ राम मनोहर लोहिया और कर्पूरी ठाकुर के सानिध्य में अपने राजनीति की शुरूआत की और उसे आगे बढ़ाया। 

उन्होंने कहा,  इतने सालों में शरद यादव के साथ मेरे रिश्ते में कई बार मतभेद भी रहे, किसी मुद्दे पर असहमति भी रही। कई बार बात भी नहीं हुई, लेकिन हमारे आपसी रिश्ते कभी खराब नहीं हुए। दोनों एक दूसरे का सम्मान करते रहे। आज उनके जाने की सूचना सुनकर मन दुखी हो गया है। शरद भाई को मेरी श्रद्धांजलि और उनके परिवार को यह दुख सहने की ईश्वर शक्ति प्रदान करे। दरअसल, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ झगड़े के बाद जद (यू) से मजबूर होकर, जिसकी वे एक बार अध्यक्षता कर रहे थे, यादव ने लोकतांत्रिक जनता दल बनाया था। प्रसाद के कहने पर, उन्हें 2019 के लोकसभा चुनावों में राजद का टिकट दिया गया था और उनकी बेटी सुभाषिनी यादव को पार्टी ने एक साल बाद विधानसभा चुनाव में मैदान में उतारा था। 2022 में यादव ने अपनी पार्टी का राजद में विलय कर दिया। 

वहीं बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने ट्विट कर अपना शील व्यक्त किया. उन्होंने कहा, आदरणीय अभिभावक शरद यादव जी को अश्रुपूर्ण भावभीनी श्रद्धांजलि. मंडल मसीहा, राजद के वरिष्ठ नेता, महान समाजवादी नेता मेरे अभिभावक आदरणीय शरद यादव जी के असामयिक निधन की खबर से मर्माहत हूँ। कुछ कह पाने में असमर्थ हूँ। माता जी और भाई शांतनु से वार्ता हुई। दुःख की इस घड़ी में संपूर्ण समाजवादी परिवार परिजनों के साथ है।



Find Us on Facebook

Trending News