सम्राट अशोक की तुलना औरंगजेब से किये जाने पर बवाल जारी, गया में साहित्यकार डीपी सिन्हा का निकाला गया शव यात्रा

सम्राट अशोक की तुलना औरंगजेब से किये जाने पर बवाल जारी, गया में साहित्यकार डीपी सिन्हा का निकाला गया शव यात्रा

GAYA : अखिल भारतीय महात्मा ज्योतिबा फुले विचार मंच के राष्ट्रीय संयोजक और राजद नेता विनय कुशवाहा के नेतृत्व में गया शहर में दया प्रकाश सिन्हा का शव यात्रा निकालकर गया के टावर चौक पर पुतला दहन किया गया। इस मौके पर उन्होंने कहा की दया प्रकाश सिन्हा आरएसएस के इशारे पर पूरे इतिहास को तोड़ मरोड़ कर जनता के सामने पेश करते हैं और नरेंद्र मोदी की सरकार इन्हें पदम श्री और साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित करती है। सम्राट अशोक के अपमान करने के एवज में नरेंद्र मोदी की सरकार ने साहित्य अकादमी पुरस्कार 2021 से इन्हें सम्मानित किया है। यह पुरस्कार साहित्य के क्षेत्र में पहली बार इन्हें प्रदान किया गया है। आरएसएस और भारतीय जनता पार्टी पूरे देश को आपसी बंटवारा करने पर तुली है। नफरत और जात पात की राजनीति करने वाली आर एस एस समर्थित भारतीय जनता पार्टी नरेंद्र मोदी की सरकार से इस देश की जनता को सावधान रहने की जरूरत है। सम्राट अशोक तत्कालीन भारत के निर्माता थे। इन्होंने अपना वैभवशाली साम्राज्य का विस्तार दुनिया में किया था।

इस मौके पर विनय कुशवाहा ने कहा कि दया प्रकाश सिन्हा ने सम्राट अशोक जैसे दूरदर्शी महापुरुष को औरंगजेब से तुलना करके पूरे देश का अपमान किया है। ऐसे व्यक्ति पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज हो और पदम श्री और साहित्य अकादमी पुरस्कार जैसे जितने पुरस्कार दिया गए हैं सभी वापस लिया जाए। दया प्रकाश सिन्हा जैसे साहित्यकार इतिहासकार इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश करते हैं और देश के महापुरुषों को अपमानित करने का काम करते हैं। सम्राट अशोक मौर्य वंश के सबसे प्रतापी राजा थे। इन्होंने दुनिया के 60 देशों में बौद्ध धर्म का प्रचार प्रसार किया था। अहिंसा भाईचारा प्रजा को कोई कष्ट ना हो इनका मुख्य कार्य था।


उन्होंने कहा की चक्रवर्ती सम्राट अशोक तापमान पूरे देश का अपमान है। आज भी हमारे भारत देश में अशोक चक्र तिरंगा में मौजूद हैं, जो देश की शान है। दया प्रकाश सिन्हा ने अपने पुस्तक में सम्राट अशोक का कुरूप हत्यारा व्यभिचारी जैसा प्रस्तुति देकर पूरे भारत देश का अपमान किया है। जिसे अखिल भारतीय महात्मा ज्योतिबा फुले विचार मंच बर्दाश्त नहीं करने वाला है। जब तक दया प्रकाश सिन्हा पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज नहीं होता है और गिरफ्तारी नहीं होती। मंच का संघर्ष लगातार जारी रहेगा। इस मौके पर मंच के प्रदेश संयोजक सत्येंद्र प्रसाद सुमन, जिला संयोजक कुमार शंभू प्रसाद अधिवक्ता, भोला यादव, मनोज कुशवाहा, रविशंकर प्रसाद मुन्ना, सुबोध ठठेरा, छोटू पांडे, चिंटू पांडे, वरिष्ठ नेता रामसेवक प्रसाद कुशवाहा,  दीपू पांडे, मोहम्मद साजली,  सातों सिंह सहित सैकड़ों की संख्या में लोग उपस्थित थे।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News