रूपेश हत्याकांड: पहचाने जाने के बाद भी तीन आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर,चार दोस्तों की भी तलाश

रूपेश हत्याकांड: पहचाने जाने के बाद भी तीन आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर,चार दोस्तों की भी तलाश

PATNA. रूपेश हत्याकांड के एक आरोपी रितुराज के गिरफ्तारी के बाद से पुलिस लगातार तीन आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए हाथ-पांव मार रही है। लेकिन नतीजा सिफर रहा है ।रितुराज की गिरफ़्तारी हुए 21 दिन बीत चुके हैं ।इसके बावजूद अभी तक पहचान किए जाने के बाद भी तीन आरोपियों की गिरफ्तारी संभव नहीं हो पाई है। पुलिस की कई टीम इन तीनों को गिरफ्तार करने के लिए पटना झारखंड सहित कई अन्य जगहों पर छापेमारी कर रही है। लेकिन यह तीनों अभी तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

40 दिन बाद भी तीन आरोपी पुलिस के गिरफ्त से बाहर

गौरतलब है कि इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रुपेश की हत्या उनके आवास से ठीक बाहर 12 जनवरी को कर दी गई थी। रुपेश हत्याकांड पर बिहार की सियासत भी काफी हुई थी। हालांकि कुछ ही दिनों बाद पुलिस ने रितुराज को गिरफ्तार कर रुपेश हत्याकांड की साजिश का खुलासा किया था। जिसमें यह बताया गया था कि रितुराज ने रुपेश की हत्या रोडरेज को लेकर कर दी है। पुलिस ने यह भी बताया था कि इस हत्याकांड में ऋतुराज के साथ पवन, मोहम्मद  बौआ और छोटू भी साथ थे। ऋतुराज की गिरफ्तारी के बाद से ही पुलिस पवन बौआ और छोटू को तलाशने में जुटी है। पटना से लेकर बिहार के कई जिलों में साथ ही हैं अन्य राज्यों में भी पुलिस के कई टीम इनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है ।पुलिस को पवन बबुआ और छोटू का आपराधिक इतिहास भी मिल चुका है। पवन और बौआ पर स्नैचिंग, छिनतई ,चोरी और लूट के कई मामले दर्ज हैं वही छोटू का कोई आपराधिक इतिहास पुलिस को नहीं मिला है।

रितुराज के चार दोस्तों को भी तलाश रही पुलिस

इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रूपेश की हत्या के  40 दिन बाद भी तीन आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकी वहीं दूसरी तरफ ऋतुराज के चार साथियों पियूष, सौरव, सतीश और भोला को भी पुलिस बेसब्री से तलाश रही है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने जब रितुराज को रिमांड पर लिया था तो उस दौरान उसने अपने चार अन्य साथियों का भी नाम बताया था। बताया है भी गया है कि इन चारों का रूपेश हत्याकांड से कोई लेना देना नहीं है लेकिन इन 4 युवकों से पुलिस रितुराज के चरित्र के बारे में और जानकारी प्राप्त करना चाहती है। बता दें कि रितुराज ने जिन चार दोस्तों का नाम लिया है उनका अभी तक कोई आपराधिक इतिहास नहीं है।

Find Us on Facebook

Trending News