ये हैं पांच आम सब्जियां जिसके सेवन से आप पड़ सकते है बीमार ,कई सारे हैं साइड-इफेक्टस

ये हैं पांच आम सब्जियां जिसके सेवन से आप पड़ सकते है बीमार ,कई सारे हैं साइड-इफेक्टस

DESK: आज कल की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में सभी की कोशिश रहती है कि वो अपनी सेहत का खास ख्याल रखें इसकरो लेकर अपने खान- पान का  लोग विशेष तौर पर ध्यान रखते है .अगर खाने की बात करें तो सब्ज़ियां सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होती हैं, इसलिए खुद को फिट और बीमारियों से दूर रहने के लिए इन्हें अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए. इन सब्ज़ियों से आप कई तरह के स्वादिष्ट भोजन  तैयार कर सकते हैं, जो आपका पेट तो भरेंगे ही और आपको ज़रूरी पोषण भी देंगे.प वहीं, कई सब्ज़ियां ऐसी भी हैं, जो आपको पोषण देने के साथ कई तरह के साइड फेक्ट्स भी देंगे.

ये साइड-इफेक्ट्स आपको कुछ देर के लिए परेशान कर सकते हैं, लेकिन ये ज्यादा हानिकारक नहीं होते. आज हम बता रहे है 5 ऐसी आम सब्ज़ियों के बारे में जिन्हें खाने से आपको कुछ दुष्प्रभाव महसूस हो सकते हैं. 

मशरूम- चकत्ते

मशरूम विटामिन-डी के अच्छे स्त्रोत होते हैं, लेकिन कई लोग इसे खाने से साइड-इफेक्ट्स का अनुभव करते हैं. इस भोजन को आहार में शामिल करने से एलर्जी भी हो सकती है. वहीं, मशरूम खाने से त्वचा पर चकत्ते होना एक सामान्य परेशानी है.मशरूम के सेवन से होने वाले चकत्ते को डर्माटाइटिस के रूप में जाना जाता है. इस मशरूम कच्चा या फिर कम पकाने के खाने से सिर्फ कुछ लोगों को एलर्जी होती है.

गाजर- इससे आपकी त्वचा भी नारंगी रंग की हो सकती है

ज्यादा गाजर के सेवन से त्वचा का रंग भी नारंगी हो सकता है, जो इसका एक आश्चर्यजनक दुष्प्रभाव है. जी हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा, बहुत ज़्यादा गाजर खाने से या ऐसी चीज़ें जो बीटा-कैरोटीन से भरपूर हों, आपकी त्वचा का रंग पीला या फिर नारंगी कर सकती हैं. शुगर के मरीज हैं तो उन फ्रूट्स का सेवन करें जिनमें शुगर की मात्रा कम हो.त्वचा के रंग में बदलाव पैरों, हाथों या पैरों के तलवों में खासतौर पर देखा जा सकता है.आपके शरीर को जो अतिरिक्त बीटा-कैरोटीन मिलता है, वह आपके खून में जाने की जगह त्वचा के अंदर चला जाता है, जिसकी वजह से कुछ समय के लिए रंग बदला हुआ दिखता है. ऐसा ज़्यादा सीताफल या फिर शकरकंदी खाने से भी हो जाता है.

चुकंदर- गुलाबी युरिन

पहली बार अगर आपका युरिन गुलाबी रंग का दिखे तो आप एकदम से घबरा सकते हैं, लेकिन घबराएं नहीं क्योंकि ये सिर्फ चुकंदर का साइड-इफेक्ट है. पौधे की पिग्मेंटेशन और उसमें मौजूद दूसरे कैमिकल कुछ देर के लिए युरिन का रंग बदल सकते हैं.काले शेहतूत, चुकंदर पेशाब को गुलाबी या फिर लाल कर सकते हैं.

संतरे का जूस- नारंगी पेशाब

बीटा-कैरोटीन की तरह ज़रूरत से ज़्यादा विटामिन-सी लेने से पेशाब का रंग भी बदल सकता है. विटामिन-सी के अलावा बहुत कम पानी पीने से भी पेशाब का रंग गहरा हो सकता है. इसलिए जब आप विटामिन-सी ले रहे हों, तो उसके साथ खूब सारा पानी भी पिएं.

गोभी- गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल तकलीफें

गोभी की तरह दूसरी क्रूसीफेरस सब्ज़ियां भी पेट की तकलीफों को जन्म दे सकती हैं, जिसमें ब्लोटिंग और गैस शामिल है. ये सब्ज़ियां पोषण से भरपूर होती हैं, लेकिन साथ ही इन्हें पचाना बेहद मुश्किल होता है, खासतौर पर अगर इन्हें कच्चा खाया जा रहा है. इन सब्ज़ियों में रेफीनोज़ नाम का एक कम्पाउंड होता है, जो एक तरह का कार्बोहाइड्रेट है. समस्या ये है कि हमारा शरीर इस तरह के कम्पाउंड को पचाने के लिए नहीं बना है, क्योंकि इसे पचाने के लिए सही एंज़ाइम की ज़रूरत होती है. इसलिए बिना पची हुई ये सब्ज़ियां जब कोलन तक पहुंचती हैं, तो पेट में गैस या ब्लोटिंग जैसी तकलीफें होने लगती हैं.

Find Us on Facebook

Trending News