सारण DTO हुआ कैशलेस, अब सारे कार्य ऑनलाइन : भ्रष्टाचार को रोकने और दलालों से मुक्ति दिलाने के लिए डीटीओ ने उठाया बड़ा कदम

सारण DTO हुआ कैशलेस, अब सारे कार्य ऑनलाइन : भ्रष्टाचार को रोकने और दलालों से मुक्ति दिलाने के लिए डीटीओ ने उठाया बड़ा कदम

हाल ही में सुर्खियों में रहे सारण डीटीओ कार्यालय को ध्यान में रख लिया गया निर्णय

CHHAPRA : डिजिटल इंडिया के तहत सारण जिला परिवहन कार्यालय कैशलेस कार्यालय बन गया है। जिला परिवहन कार्यालय में अब परिवहन से संबंधित तमाम कार्य जैसे ड्राइविंग लाइसेंस, लर्निंग लाइसेंस, वाहनों के निबंधन समेत सभी कार्य कैशलेस होंगे। जिला परिवहन पदाधिकारी जनार्दन कुमार ने कैशलेस सिस्टम को लेकर जानकारी देते हुए कहा कि अब लोग घर बैठे ऑनलाइन परिवहन शुल्क का भुगतान कर सकते हैं। 

भीड़ से मिलेगी राहत,अधिक से अधिक होंगे कार्य

उन्होंने स्पष्ट कहा कि परिवहन विभाग में आमजन अपने काम कराने के लिए रोजाना सैकड़ों की संख्या में पहुंचते हैं. ऐसे में लोगों को किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े और आमजन कम से कम परिवहन विभाग के कार्यालय में पहुंचे, इसको लेकर भी  परिवहन मंत्रालय लगातार   तैयारी कर रहा है. इस नई व्यवस्था के तहत अब डीटीओ कार्यालय के अधिक से अधिक कार्य ऑनलाइन होंगे. 

घर बैठे अब होंगे  यह 10 काम 

डीटीओ ऑफिस के 10 से अधिक काम अब घर बैठे ऑनलाइन भी हो सकेंगे. लर्निंग लाइसेंस, परमिट, ड्राइविंग लाइसेंस, रिन्यूअल, ऐड्रेस चेंज ऑफ ड्राइविंग लाइसेंस, एनओसी, डुप्लीकेट लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन, वाहन की ओनरशिप बदलवाने, इंटरनेशनल लाइसेंस, वाहन का रजिस्ट्रेशन, ड्राइविंग सेंटर पर अपॉइंटमेंट, चालान का भुगतान, टैक्स, डुप्लीकेट आरसी, सहित कई ऐसे कार्य हैं जो अब ऑनलाइन ही हो सकेंगे. 


ऐसे होगी ऑनलाइन प्रक्रिया

इसके लिए परिवहन विभाग की वेबसाइट पर जाना भी होगा. इसके साथ ही ऑनलाइन आवेदन लिंक पर ऑप्शन चुनना होगा और यहां पर व्यक्ति को संबंधित दस्तावेज अपलोड करने होंगे, साथ ही ऑनलाइन फीस जमा करानी होगी. उसके बाद यह सभी कार्य ऑनलाइन हो सकेंगे और परिवहन विभाग के अंतर्गत लोगों की भीड़ जो लगी रहती थी वह भी अब खत्म हो जाएगी.

भ्रष्टाचार और दलालों से मिलेगी मुक्ति

 इस सुविधा से आमजन को दलालों से छुटकारा भी मिलेगा, साथ ही घर बैठे ही अपने कार्य करवा सकेंगे. सबसे बड़ी बात की हाल ही में छपरा डीटीओ कार्यालय पूर्व के एक जिला परिवहन पदाधिकारी के करतूत के कारण काफी सुर्खियों में था. पूर्व के जिला परिवहन पदाधिकारी ने अकूत संपत्ति अर्जित की थी जिसे लेकर राज्य सरकार की विभिन्न एजेंसियों ने कई कार्रवाई की है. ऐसे में भ्रष्टाचार को रोकने के लिहाज से हैं इस कदम को उठाया गया है ताकि कैश रकम कार्यालय तक नहीं पहुंचे.

क्या कहते हैं अधिकारी

योगदान करने के साथ ही मैंने निर्णय लिया था कि छपरा परिवहन कार्यालय को डिजिटल और कैशलेस किया जाएगा यह उसी का परिणाम है आज कार्यालय में भ्रष्टाचार मुक्त माहौल में कार्य संपन्न कराए जा रहे हैं किसी को भी कोई शिकायत हो तो मिलकर बताएं।

Find Us on Facebook

Trending News