सासाराम में संदिग्ध परिस्थिति में चार की मौत, दो के आँख की गयी रौशनी, जहरीली शराब पीने की आशंका

सासाराम में संदिग्ध परिस्थिति में चार की मौत, दो के आँख की गयी रौशनी, जहरीली शराब पीने की आशंका

SASARAM : रोहतास जिला के करगहर और परसथुआ इलाके में पिछले दो दिनों में चार लोगों की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई. जबकि दो लोगों के आंखों की रोशनी चली गयी है. अंधा हो चुके एक शख्स ने शराब पीने की बात स्वीकारी है. वही किसी की मौत का प्रशासनिक रूप से स्पष्ट कारण का नहीं पता चल रहा है. जबकि इलाके में ऐसी चर्चा है कि जहरीली शराब के सेवन से जुड़ा हुआ मामला है. प्राप्त सूचना के अनुसार करगहर थाना क्षेत्र के बहुआरा, खरेज तथा  परसथुआ ओपी क्षेत्र के भगवानपुर एवं बसतलवा में लोगों की मौत हुई है. मृतकों में एक जन वितरण प्रणाली का दुकानदार भी है. वही दिनारा के रहने वाले पशु चिकित्सक विपिन सिंह की भी संदिग्ध परिस्थिति में ही मौत हुई है. पिछले दो-तीन दिनों में चार लोगों की मौत से इलाके में सनसनी फैली हुई है. मरने वालों में बहुआरा के दीपक सिंह, बसतलवा गांव के पीडीएस डीलर सुदामा नाम, भगवानपुर गांव में रह रहे दिनारा के विश्रामपुर गांव के निवासी विपिन सिंह और खरेज गांव के अरुण सिंह की मौत की खबर आई है.  

सबसे बड़ी बात है कि भगवानपुर गांव के विजय सिंह तथा शोभीपुर के सुरेंद्र पाल के आंख की रोशनी चली गयी है. चुकी दिनारा के बिश्रामपुर के रहने वाले विपिन सिंह के शव का पुलिस ने पोस्टमार्टम भी कराया है. वही बसतलवा के पीडीएस डीलर सुदामा राम के भाई जगदीश राम ने बताया कि उनके भाई दारु- शराब पिया करते थे. मौत से कुछ दिन पहले उन्होंने शराब पी थी. अचानक उनकी तबीयत बिगड़ी तो उन्हें डॉक्टर के पास ले जाया गया. जहां उनकी मौत हो गई. गांव के ही राधिका रमन दुबे कहते हैं कि करगहर थाना क्षेत्र के बहुआरा, तेंदूनी, लोकनाथपुर, धनेज आदि इलाके में खुलेआम शराब की बिक्री होती है. 

ग्रामीण कहते हैं की शराब पीने से इलाके में लगातार मौतें हो रही हैं. चुकी अलग-अलग गांव में अलग-अलग समय पर संदिग्ध परिस्थिति में लोगों की मौत हुई है. मामले में फिलहाल कोई भी प्रशासनिक पदाधिकारी कुछ भी कहना नहीं चाह रहा है. लेकिन इलाके में चर्चा का बाजार गर्म है, कि शराब ही इन लोगों की मौत का कारण बना है. फिलहाल पूरा मामला जांच का है, चुकी सुरेंद्र पाल के आंखों की रोशनी चली गई है. वह स्वीकार करता है कि उसने शराब पी थी. लेकिन कहता है कि वाराणसी से शराब पीकर आया था. जबकि भगवानपुर गांव का विजय सिंह के आंखों की भी रोशनी चली गई है. वह स्वीकार करता है कि पशु चिकित्सक विपिन सिंह की तबीयत बिगड़ी. उस समय वह बिपिन सिंह के ही साथ था. 

सासाराम से राजू की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News