ना बारात, न विदाई, ससुराल में ही दुल्हन ने वर को पहनाई वरमाला, साक्षी बने पंचायत और गांव के लोग

ना बारात, न विदाई, ससुराल में ही दुल्हन ने वर को पहनाई वरमाला, साक्षी बने पंचायत और गांव के लोग

दरभंगा: जिले के कमतौल थाना क्षेत्र के टेकतार गांव की एक लड़की शोभा कुमारी की शादी की चर्चा इलाके भर में हो रही है. यहां न लड़की के लिए न तो बारात आई, न ही मायके से उसकी विदाई हुई। लड़की के लिए उसका ससुराल ही मायका बन गया, जहां उसने दुल्हे को वरमाला पहनाया। इस अनोखी शादी के बाद वर-वधू में खुशी नजर आई। नाटकीय ढंग से हुई शादी में आशीर्वाद देने के लिए पंचायत और गांव के लोग जुटे।

 दरअसल, 25 जनवरी की रात टेकटार गांव की शोभा कुमारी अपने प्रेमी मधुबनी जिले के बिस्फी थाना क्षेत्र के सिंघिया गांव के अविनाश के साथ भाग गई थी. शोभा के घरवालों को जब इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने लड़के वालों से संपर्क किया. पहले तो लड़के वालों ने इस घटना से अनभिज्ञता जताई और उसके बाद उन्होंने लड़की के आने की बात स्वीकार करते हुए उसे वापस उसके घर भेजने की बात कह डाली. शोभा के चाचा नवल किशोर झा ने बताया कि लड़के वाले पहले तो उनकी लड़की को भगाने की घटना से ही इनकार कर रहे थे. जब स्वीकार किया तो लड़की को वापस उसके घर भेजने की बात कहने लगे. आखिरकार वो गांव के 20-25 लोगों के साथ लड़के अविनाश के घर पहुंचे, वहां पंचायत बुलाई. काफी देर तक इनकार करने के बाद आखिरकार लड़के वालों ने पंचायत के फैसले को स्वीकार कर लिया.

चर्चा का विषय बनी शादी

सभी की सहमति से शोभा ने अपने प्रेमी अविनाश के घर के आंगन में ही उसे वरमाला पहनाई और दोनों ने एक-दूसरे को पति-पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया. शोभा और अविनाश की ये शादी पूरे इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई है. दरअसल, शोभा अपनी एक बहन के साथ अपने चाचा के घर में रहती है. उसकी मां का निधन हो गया है, जबकि उसके पिता मुंबई में रहते हैं और उन्होंने दूसरी शादी कर शोभा को अपने से अलग कर रखा है. ऐसे में शोभा के अभिभावक के रूप में उसके चाचा और चचेरे भाई ही उसकी देखभाल करते हैं.

Find Us on Facebook

Trending News