कोरोना काल में 142 शिक्षक और शिक्षाकर्मियों की गयी जान, बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ ने की 4 लाख रूपये देने की मांग

कोरोना काल में 142 शिक्षक और शिक्षाकर्मियों की गयी जान, बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ ने की 4 लाख रूपये देने की मांग

PATNA : बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सह विधान पार्षद केदार नाथ पाण्डेय एवं प्रभारी महासचिव विनय मोहन ने संयुक्त बयान जारी कर कहा है कि कोविड-19 के कारण हमने पूरे राज्य में आज की तिथि में माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक  शिक्षा से जुड़े सभी कोटि के शिक्षकों, पुस्तकालयाध्यक्षों, तृतीय वर्ग के कर्मचारियों अनुसेवियों समेत 142 (एक सौ बेयालिस) की संख्या में काल कवलित हुए हैं। यद्यपि हमने पूरे राज्य में मीडिया के माध्यम से वर्चुअल संवाद के द्वारा शोक संवेदना व्यक्त की है। लेकिन इस सामान्य औपचारिकता में हमलोग अपने आपको सीमित नही रखना चाहते। 

उन्होंने कहा की हमने अपने ऐसे सरस्वती पुत्रों को खोया है जिससे न सिर्फ शिक्षा जगत की अपूरणीय क्षति हुई है अपितु इस परिवार पर तो पहाड़ ही टूट पड़ा है। हमारी कितनी बहनें अपना सुहाग लुटा चुकी हैं। वहीं कितनी बहनें अपने पति का साथ छोड़ गई। अपने साथ कई-कई दुधमुंहे बच्चे को छोड़कर इस संसार को छोड़ गई। आर्थिक विपन्नता की घड़ी में इस परिवार का गुजर बसर करना भी कठिन मालूम पड़ता है। दूसरी ओर ऐसी अवस्था में सरकार के द्वारा कोई आर्थिक लाभ नहीं दिया जाना उनके कष्टों को और भी बढ़ाने का कार्य कर रहा है। 

उन्होंने कहा की शिक्षा मंत्री से हमारी स्पष्ट मांग है कि आप इस दुख की घड़ी में अपनी संवेदनशीलता का परिचय देते हुए सरस्वती पुत्रों के परिवार को एकमुश्त अनुग्रह राशि 4 लाख रूपये तत्काल प्रदान करें। इसके अतिरिक्त हमारी अधिकांश प्रमंडल इकाईयों ने इस दुख की घड़ी में अन्य राज्यों की तरह 50 लाख की सहायता राशि की मांग की है। जिसका राज्य संघ समर्थन करते हुए आपसे आग्रह करता है कि इस दिशा में ठोस पहल की जाय। यद्यपि हमने अपने जिला इकाइयों को यह निर्देशित कर दिया है कि अपने-अपने  जिलों के कार्यरत बलों की सूची के साथ अनुकंपा, ई.पी.एफ लाभ से संबंधित कागजात एवं स्टेट बैंक से मिलने वाली राशि पर भी अपने साथियों के परिवार को भरपूर मदद करें। ताकि उनके गम को थोड़ा बहुत बांटा जा सके। बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ अपने सभी 142 साथियों के प्रति पुनः शोक संवेदना व्यक्त करते  हुए उनके परिवार के प्रति सहानुभूति व्यक्त करती है।



Find Us on Facebook

Trending News