श्रवण कुमार बने विधानसभा में सत्तारूढ़ दल का मुख्य सचेतक, नीतीश कुमार ने इन नेताओं को दिया अहम जिम्मा

श्रवण कुमार बने विधानसभा में सत्तारूढ़ दल का मुख्य सचेतक, नीतीश कुमार ने इन नेताओं को दिया अहम जिम्मा

पटना. नालंदा से विधायक श्रवण कुमार को बिहार विधानसभा में सत्तारूढ़ दल का मुख्य सचेतक बनाया गया है. राज्य में सत्ता परिवर्तन के बाद सत्ताधारी गठबंधन का समीकरण बदल गया है. इसी कारण मुख्य सचेतक, उप मुख्य सचेतक और सचेतकों के नाम की घोषणा की गई है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर जारी सूची को विधानसभा अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी ने मनोनयन कर दिया है. विधानसभा सचिवालय की ओर से इसकी अधिसूचना शक्रवार को जारी हुई. 

इसके अनुसार श्रवण कुमार को मुख्य सचेतक, अख्तरुल इस्लाम शाहीन को उप मुख्य सचेतक और रत्नेश सदा, राजेश कुमार राम, नरेंद्र कुमार नीरज, राजीव कुमार, राजकुमार सिंह, राजवंशी महतो, अजय कुमार, राम रतन सिंह और मोहम्मद रफी को सचेतक बनाया गया है. 

मुख्य सचेतक श्रवण कुमार को मंत्री पद की सुविधा मिलेगी. वहीं  अख्तरुल इस्लाम शाहीन को उप मुख्य सचेतक के नाते राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त होगा. सचेतक बने रत्नेश सदा, राजेश कुमार राम, नरेंद्र कुमार नीरज, राजीव कुमार, राजकुमार सिंह, राजवंशी महतो, अजय कुमार, राम रतन सिंह और मोहम्मद रफी को उप मंत्री का दर्जा प्राप्त होगा, उन्हें उसी अनुसार सुविधाएं भी मिलेंगी. 


दरअसल नीतीश कुमार ने सचेतक बनाकर कई लोगों को खुश करने की भी कोशिश की है. जैसे अख्तरुल इस्लाम शाहीन राजद के विधायक हैं. वे समस्तीपुर से निर्वाचित हैं. महागठबंधन सरकार में मंत्री नहीं बनाए जाने से अख्तरुल को नाराज माना जा रहा था. अब उन्हें उप मुख्य सचेतक बनाकर एक तरफ नराजगी दूर करने की कोशिश की गई है तो दूसरी ओर उन्हें अब राज्य मंत्री का दर्जा भी मिल गया है. इसी तरह सचेतक बनाए गए राज कुमार सिंह ने 2020 में लोजपा के टिकट पर चुनाव जीता था लेकिन वे चिराग की पार्टी को छोड़कर जदयू में चले आए थे. पहली विधायक बने राज कुमार सिंह को अब सचेतक बनाया जाना भी एक प्रकार से उन्हें खुश करने का एक तरीका माना जा रहा है. इसी तरह अन्य सचेतकों में कई मंत्री पद की मांग करने वालों में शामिल थे. उन्हें अब सचेतक बनाकर महागठबंधन सरकार ने उनकी नाराजगी दूर करने की कोशिश की है. 



Find Us on Facebook

Trending News