खगड़िया के आतंक विनोद यादव को STF ने दबोचा, गैंग ने इलाके में मचा रखा था दहशत

खगड़िया के आतंक विनोद यादव को STF  ने दबोचा, गैंग ने इलाके में मचा रखा था दहशत

पटना: बिहार पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स को बहुत बड़ी सफलता हाथ लगी है. खगड़िया जिले में स्थानीय पुलिस के लिए बहुत बड़ी चुनौती बन चुके कुख्यात अपराधी विनोद यादव को एसटीएफ ने दबोच लिया है. एसटीएफ ने मधेपुरा जिला में कार्रवाई करते हुए इस अपराधी को दबोचा है.

स्पेशल टास्क फोर्स के एडीजी सुशील मानसिंह खोपड़े के निर्देश पर चलाए गए ऑपरेशन के दौरान एसटीएफ के एसओजी वन की टीम ने मधेपुरा में छापामारी की और विनोद यादव को धर दबोचा. एसटीएफ के ऑपरेशन को अभियान डीआईजी विनय कुमार और एसपी मानव जीत सिंह ढिल्लों के मॉनिटरिंग में चलाया जा रहा था. एसटीएफ के एसओजी वन की टीम पिछले 10 दिनों से मधेपुरा में कैंप किए हुए थी. टीम को लीड कर रहे एसटीएफ सब इंस्पेक्टर ने मधेपुरा में छापामारी कर अपने कमांडो की टीम के साथ मिलकर इनामी अपराधी को दबोच लिया है.

मधेपुरा में छिपकर रह रहे 50,000 के इनामी अपराधी को विनोद यादव को एक सहयोगी के साथ गिरफ्तार कर खगड़िया पुलिस के हवाले किया गया है. सूत्रों की मानें तो विनोद यादव के साथ उसके सहयोगी राजन कुमार को भी गिरफ्तार किया गया है.


बीते एक महीने में विनोद यादव के गैंग ने खगड़िया में कोहराम मचा रखा था. स्थानीय पुलिस उस तक पहुंच नहीं पा रही थी. खगड़िया पुलिस के विशेष अनुरोध पर एडीजी अभियान सुशील मानसिंह खोपड़े ने एसटीएफ को खगड़िया में अस्थाई रूप से तैनात कर दिया था. कुछ दिनों पहले ही खगड़िया में डबल मर्डर की वारदात को विनोद यादव गैंग द्वारा अंजाम दिया गया था. डबल मर्डर की वारदात में पूर्व सरपंच को निशाना बनाया गया था. एसटीएफ ने हत्या में प्रयुक्त हथियार को मुंगेर जिला के टीका रामपुर से बरामद कर खगड़िया पुलिस को सौंपा था. इसके बाद एसटीएफ की टीम मधेपुरा की ओर चली गई थी.


दरअसल विनोद यादव के काफी दिनों से मधेपुरा में छिपे होने की सूचना थी. मोबाइल सर्विलांस पर और ह्यूमन इंटेलिजेंस आधारित कार्रवाई के दौरान ही इनामी अपराधी गिरफ्तार हुआ है. दरअसल एसटीएफ ने ट्रिपल मर्डर की वारदात के बाद विनोद यादव पर नजरें टिका रखी थी. एक महीने पहले हुए तिहरे हत्याकांड के बाद ही एसटीएफ़ ने खगड़िया पुलिस को अलर्ट किया था तथा यह भी कहा गया था कि विनोद यादव दुबारा किसी बहुत बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में है. एसटीएफ के अलर्ट के बावजूद डबल मर्डर की वारदात को विनोद यादव ने अंजाम दिया था. इसके बाद एसटीएफ ने विनोद की गिरफ्तारी के लिए लगातार अभियान चलाया था तथा इसकी गिरफ्तारी को एक मिशन के तौर पर लिया था.

एसटीएफ की टीम खगड़िया, मधेपुरा और मुंगेर के इलाके में पिछले 10 दिनों से खाक छान रही थी. आखिरकार एसटीएफ को सफलता मिल गई. गिरफ्तार अपराधी को एसटीएफ ने खगड़िया पुलिस के हवाले कर दिया है.

Find Us on Facebook

Trending News