सुशील मोदी की भविष्यवाणी, फ्लॉप होगी मानव श्रृंखला, तिरंगे का अपमान कराने वालों के साथ नहीं है बिहार

सुशील मोदी की भविष्यवाणी, फ्लॉप होगी मानव श्रृंखला, तिरंगे का अपमान कराने वालों के साथ नहीं है बिहार

PATNA: बिहार में राजद की तरफ से 30 जनवरी को मानव श्रृंखला प्रस्तावित है। किसान आंदोलन के समर्थन में तेजस्वी यादव के नेतृत्व में मानव श्रृंखला आयोजित की गई है। इस मानव श्रृंखला में बिहार के महागठबंधन के तमाम सहयोगी भी शिरकत करेंगे। मानव श्रृंखला की सफलता को लेकर आज महागठबंधन की बैठक हुई। राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर महागठबंधन नेताओं की बैठक में मानव श्रृंखला को सफल बनाने की रणनीति बनी। इधर, भाजपा ने आज ही भविष्यवाणी कर दी कि मानव श्रृंखला फ्लॉप होगी।

बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि बिहार तिरंगे का अपमान कराने वालों के साथ नहीं है।उन्होंने कहा कि 30 जनवरी को जो मानव श्रृंखला है वो फ्लॉप होगी। नये कृषि कानून के विरुद्ध किसानों को गुमराह कर जिन लोगों ने दिल्ली को दो महीने तक घेरे रखा, करोडों लोगों को आर्थिक चोट पहुँचायी और गणतंत्र दिवस पर हिंसा-तोडफोड करते हुए तिरंगे का अपमान किया, उन्हें अब देश के गुस्से का शिकार होना पड रहा है। भारत-विरोधी एजेंडा चलाने वाले बिचौलियों- खालिस्तानियों का साथ देकर कांग्रेस, राजद और वामदल पूरी तरह बेनकाब हो चुके हैं। ये लोग बिहार में गणतंत्र के शत्रुओं का दुस्साहस बढ़ाने के लिए जो मानव श्रृंखला बनाने वाले हैं, उसकी कड़ियां बनने से पहले बिखर जाएंगी।

सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा कि बिहार की एनडीए सरकार ने 2006 में किसानों को मंडी में फसल बेचने की बाध्यता से मुक्ति दिलायी, कृषि रोड मैप लागू किया, पहली बार किसान महापंचायत बुलाकर विशेषज्ञों की राय ली, कृषि उपकरणों की खरीद पर सब्सिडी दी और 2018 में हर गांव तक बिजली पहुँचाकर डीजल पम्प से सिंचाई का बोझ खत्म किया। प्रधानमंत्री मोदी की सरकार ने यूरिया की कालाबाजारी बंद करने के लिए नीम लेपित यूरिया उपलब्ध कराया, किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य पर काम किया और सालाना 6 हजार रुपये किसानों के खाते में डालने की शुरुआत की। जिन लोगों ने अपने 15 साल के राज में किसानों के लिए कुछ नहीं किया, वे किसानों के हमदर्द बनने के लिए मानव श्रृंखला बनाने के बहाने सडक पर उत्पात करना चाहते हैं।


Find Us on Facebook

Trending News