शिक्षक ने स्कॉलर की मदद से दो बार दी मैट्रिक की परीक्षा, आरडीडीई ने दिया जांच का आदेश

शिक्षक ने स्कॉलर की मदद से दो बार दी मैट्रिक की परीक्षा, आरडीडीई ने दिया जांच का आदेश

CHHAPRA : दरियापुर थाना क्षेत्र के अकबरपुर निवासी मनोज कुमार ने प्राथमिक विद्यालय शीतलपुर पीरगंज दिघवारा के एक शिक्षक पर गंभीर आरोप लगाया है। मनोज कुमार ने जिला शिक्षा पदाधिकारी, शिक्षा उपनिदेशक और अन्य अधिकारियों को दिए आवेदन में कहा है कि स्कूल के शिक्षक ने अब अपनी उम्र को छिपाकर दो दो बार अलग-अलग हाई स्कूलों से अपने स्थान पर स्कॉलर को बैठाकर परीक्षा दिलवाई और उत्तीर्ण होकर गलत कागजात के आधार पर प्राथमिक विद्यालय शीतलपुर पीरगंज दिघवारा में नौकरी पा ली है।

उन्होंने कहा है कि वर्ष 1985 में जे आई हाई स्कूल शीतलपुर से पहली बार मैट्रिक का परीक्षा दिया था। जिसका रोल नंबर 00 34 और रोल कोड 9116 है। जिसमें शिक्षक का जन्म तिथि 18 जून 1970 अंकित है। दूसरी बार में 1994 में वेद नारायण हाई स्कूल मोहम्मदपुर गरखा से मैट्रिक की परीक्षा दी। जिसमें शिक्षक का रोल नंबर 00 90 रोल कोड 09 151 है। इस परीक्षा में प्रथम श्रेणी से पास हुए। इस परीक्षा के लिए जन्म तिथि 10 जनवरी 1977 दिखाया गया है। ऐसे में इनके द्वारा फर्जीवाड़ा करके दो बार मैट्रिक के परीक्षा दी गई है तथा जाली प्रमाण पत्र के आधार पर शिक्षक की नौकरी प्राप्त की है। 

आवेदक ने बताया है कि शिक्षक 10 जनवरी 1977 जन्मतिथि के आधार पर नौकरी कर रहे हैं। इस मामले की जांच करते हुए उचित कार्रवाई की जा सकती है। पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए शिक्षा उपनिदेशक ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को जांच कर कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

छपरा से संजय भारद्वाज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News