छात्रों को मर्यादा का पाठ पढ़ाने वाले शिक्षक खुद भूले नैतिकता, अब फर्जीवाड़ा आरोपी 33 शिक्षकों पर गिरी गाज

छात्रों को मर्यादा का पाठ पढ़ाने वाले शिक्षक खुद भूले नैतिकता, अब फर्जीवाड़ा आरोपी 33 शिक्षकों पर गिरी गाज

पटना.  शिक्षकों पर छात्रों को नैतिकता, अनुशासन, मर्यादा और सत्यनिष्ठ होने का पाठ पढ़ाने की जिम्मेदारी रहती है. लेकिन बिहार के कई शिक्षकों के फर्जीवाड़े ने इन सारे मूल्यों को ताक पर रख दिया. अब शिक्षा विभाग को उनके फर्जीवाड़े की जानकारी मिली तो ऐसे 33 शिक्षकों गाज गिरी है. 

राज्य के आरा जिले से जुड़े इस फर्जीवाड़ा मामले में शिक्षकों पर गलत सर्टिफिकेट पर हेडमास्टर पद पर प्रमोशन पाने का आरोप है. आरा के जिला शिक्षा पदाधिकारी प्रेमचंद ने 33 शिक्षकों और हेडमास्टरों से शोकॉज किया है. अगर उनके जवाब सकारात्मक नहीं पाए तो कार्रवाई की जाएगी. जिले में इससे पूर्व 21 हेडमास्टरों का प्रमोशन रद्द किया जा चुका है. 

कार्रवाई की रडार पर चढ़े शिक्षकों में मनोज कुमार ठाकुर-उमवि बजरुहा उदवंतनगर, अब्दुल- फरीद मध्य विद्यालय हसवाडीह पीरो, सुरेश कुमार सिंह-उर्दू उमवि बगही बिहिया, विनोद राम-उमवि बलुआ आरा, रमेश कुमार-उमवि सारिपुर संदेश, मंजू कुमारी-उकमवि अनाइठ आरा। जय नारायण सिंह-मवि हसन बाजार पीरो, ददन चौधरी-उमवि कुसुमहा उदवंतनगर, अरुण कुमार सिंह-उमवि मोतीडीह पीरो, श्रीराम प्रसाद-उमवि शोभी डुमरा आरा, असदुल्लाह हैदर-उमवि भोपतपुर कोईलवर, संजय कुमार-उमवि जगवालिया आरा, मनोज प्रसाद-उमवि परमार टोला पीरो, नवल किशोर तिवारी-अमीरचंद कमवि आरा, गोरख उपाध्याय-उमवि पचरुखिया पीरो, अंगद कुमार-उमवि रामदेव छपरा हिन्दी आरा व श्याम नंदन प्रसाद-उमवि यादवपुर बिहिया शामिल है. 


Find Us on Facebook

Trending News