तेजस्वी को नीतीश कुमार पढ़ा रहे हैं 'बापू के सात सिद्धांत' - चरित्र के बिना ज्ञान किसी काम का नहीं

तेजस्वी को नीतीश कुमार पढ़ा रहे हैं 'बापू के सात सिद्धांत' - चरित्र के बिना ज्ञान किसी काम का नहीं

पटना। बिहार में नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच खिंचातानी जारी है। जहां एक दिन पहले तेजस्वी यादव ने विधानसभा में बिहार सरकार के काम पर सवाल उठाए थे। वहीं अब सीएम नीतीश कुमार नेता प्रतिपक्ष को बापू के सात सिद्धांत की सीख दे रहे हैं। नीतीश कुमार बिहार पुलिस सप्ताह को लेकर एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। 

इस दौराने उन्होंने नाम न लेते हुए तेजस्वी यादव के कार्य को लेकर सवाल खड़े कर दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत लोग अपने को ज्ञानी समझते हैं, लेकिन जब चरित्र नहीं हैं, तो चरित्र के बिना ज्ञान सामाजिक पाप है। उन्होंने कहा आज कुछ लोग सबसे ज्यादा लिखते हैं और क्या क्या लिखते हैं, हम लोग जो काम करते हैं, उसको लेकर लिखते हैं, तो अपने को बहुत बड़ा ज्ञानी समझते हैं और लिखते हैं गड़बड़। इस दौरान उन्होंने बापू के विचारों को लेकर कहा कि जब तक धरती है, तब तक वह जीवित रहेगा। नीतीश कुमार ने नैतिकता के बिना व्यापार, मानवता के बिना विज्ञान और त्याग के बिना पूजा सामाजिक पाप है। इस दौरान उन्होंने कहा त्याग के बिना पूजा का कोई लाभ नहीं होनेवाला है, इसे कुछ लोगों को समझना चाहिए।


शराबबंदी पर बोले सीएम

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि दुनिया 27 प्रतिशत एक्सीडेंट चालक के दारु पीने के कारण होता है। उन्होंने कहा कि आज क्या स्थिति है, इसे समझ लेना चाहिए। दारू पीने से कई बीमारी होती है। 48 प्रतिशत लीवर की बीमारी दारू के कारण होती है। माउथ कैंसर 26 फीसदी मौत  दारू के कारण होती है। इस तरह के कई गंभीर बीमारियों का कारण शराब है। कुछ लोग गोपनीय ढंग से दारू लाकर बेच रहे हैं। ऐसे लोगों पर निगरानी रखने के लिए हमने बोल दिया है कि प्राइवेट लोगों की नियुक्ति की जाए। डीजीपी के भाषण का उदाहरण देते हुए उन्होंने बाहर से दारू भेजनेवाले दो लोगों को हमने पकड़ा है। उन्होंने कहा कि कई लोग कहते हैं कि कुछ लोग बिना शराब के नहीं जी सकते हैं। इससे ज्यादा बकवास बात कुछ नहीं हो सकती है। 

पांच साल का पेश किया आंकंड़ा

उन्होंने 2016 अप्रैल से जनवरी 2021 तक शराब को लेकर आंकड़ा प्रस्तुत करते हुए कहा कि पांच साल में दो लाख 111 मामले शराबबंदी से संबंधित दर्ज किए गए हैं। लगभग 51.7 लाख देसी शराब और 94.9 लाख विदेशी शराब जब्त की गई है। वहीं तीन लाख 401 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. 417 को सजा मिल चुकी है। सीमाओं के 5401 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।



Find Us on Facebook

Trending News