10 किग्रा मक्के के बंटवारे को लेकर भाई को पीट-पीटकर मार डाला, बाद में शव को कोसी नदी में बहा कर फरार हुए दोनों बड़े भाई

 10 किग्रा मक्के के बंटवारे को लेकर भाई को पीट-पीटकर मार डाला, बाद में शव को कोसी नदी में बहा कर फरार हुए  दोनों बड़े भाई

NAUGACHHIYA :- नवगछिया पुलिस जिला के कदवा ओपी थाना क्षेत्र अंतर्गत लक्ष्मीनियां गांव में बीते गुरुवार को एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. जहां दस किग्रा मक्के के लिए दो सगे भाईयों ने हींमिल कर छोटे भाई को बेरहमी से पीट-पीटकर हत्या कर दी है। मृतक लक्ष्मीनियां कदवा निवासी किशन मंडल के पुत्र नीतीश कुमार बताया जा रहा है. वहीं हत्या के बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए आरोपित भाईयों द्वारा कोसी नदी में शव को बहा दिए जाने की बात बताई जा रही है. घटना के बाद आरोपित घर छोड़ कर फरार हो गए हैं।

बंटवारे में मिला दस किलो मक्का

मृतक की पत्नी लक्ष्मी देवी ने कदवा थाने में लिखित आवेदन देते हुए कहा है कि- मेरी सास को बंटवारे वाला दस किग्रा मक्का हमको मिली थी। जिसके लिए कहासूनी के दौरान मेरे पति के भाई गोनू मंडल व सुधिर मंडल के बीच मारपीट हो गई. मारपीट में जब मेरा पति नीतीश मंडल ने भागकर दूसरे के यहां जान बचाया तो, वहां भी पीछा कर दोनों भाई गोनू मंडल व सुधिर मंडल ने मारपीट करते हुए अपने आंगन ले आए। जिसके बाद दोनों उन्हें तब तक पीटते रहे जब मेरे पति का दम टूट गया। 

आंखों के सामने शव को कोसी में फेंक दिया

पति को खोने का गम झेल रही महिला ने बताया कि मेरे दोनों भैंसूर ने अपने कंधे पर उठा कर पति को बासावटों के रास्ते पूरब बहियार की ओर ले जाकर, बैसी के बहती कोसी नदी में मेरे पति के लाश को फेंक दिया। महिला ने बताया कि मैंने सारा दृश्य अपने घर के सड़कों पर से देखती रही. पूछने पर सब यही बताते रहे कि नीतीश को इलाज के लिए ले जाया गया है. कुछ देर बाद जब सब लोग घर छोड़ कर भागने लगे तब पता चला मेरे पति के लाश को बैसी नदी में बहा दिए गए. इसकी सूचना अपने नैयर पति के मोबाइल से दी तो, मेरी ननद मनीषा देवी ने मेरे हाथ से मोबाइल छीन ली और अपने ससुराल भाग कर चली गई।

 गांवों में हो रही चर्चा: एक माह पहले पिता की हुई मौत, बंटवारे में मां के पास बचा था दस किलो मक्का

लक्ष्मीनियां गांव में नीतीश मंडल के हत्या के बाद तरह-तरह की चर्चाएं हो रही है. जहां ग्रामीणों दबी जुबान में कह रहे थे. एक माह पूर्व नीतीश के पिता किशन मंडल का निधन हो गया था. उसके श्राद्ध कर्म के बाद आपस में भाईयारी बंटवारे चल रही थी. जिसमें दस किलो मक्के नीतीश की मां के पास बची थी। उसी के लिए नीतीश के भाई गोनू और सुधिर मंडल ने उसके साथ दो दिन पहले से मारपीट कर रहा था. जख्मी हालात में जब नीतीश ने थाना जाकर शिकायत करना चाहता था तो, कुछ गांव वाले ने उसे रोक कर गांव में हीं इंसाफ दिलाने की बात कर लेते थे. लेकिन बाद में कोई ध्यान नहीं देता था।

हत्या या आत्महत्या

यह भी चर्चा है कि नीतीश का अपने पत्नी लक्ष्मी से भी बराबर अनबन चल रही थी. आपसी विवाद को लेकर बीच बीच में पत्नी ने भी नीतीश के साथ मारपीट करती थी. हर तरफ से बेसाहारा बने नीतीश ने तंग आकर अपने-आपको बेसाहारा समझ खुद अपने गले में फांसी का फंदा लगाकर गुरुवार की दोपहर करीब दो बजे आत्महत्या कर ली है. कदवा थाने की एसआई विसर्जन पासवान ने बताया कि- घटना के बाद सभी आरोपित फरार हैं. मृतक की पत्नी लक्ष्मी देवी के आवेदन पर प्राथमिकी दर्ज कर शव की खोजबीन व आरोपितों की धरपकड़ के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है.

Find Us on Facebook

Trending News