साम्प्रदायिकता का रथ पहले लालू ने रोका था, अब महागठबंधन रोकेगा : रामचंद्र पूर्वे

साम्प्रदायिकता का रथ पहले लालू ने रोका था, अब महागठबंधन रोकेगा : रामचंद्र पूर्वे

VAISHALI : शिक्षक से देश के प्रथम उपराष्ट्रपति और द्वितीय राष्ट्रपति बननेवाले डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस के मौके पर 5 सितम्बर को हर साल शिक्षक दिवस का आयोजन किया जाता है। इसी कड़ी में शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर भगवानपुर के वारिसपुर स्थित ब्रह्माकुमारी शांति शक्ति सरोवर में संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह आयोजित किया गया। 


कार्यक्रम का उद्घाटन बिहार विधान परिषद के उपसभापति डॉ रामचंद्र पूर्वे ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम में भाग लेने के बाद मीडिया से बात करते हुए इशारों इशारों में भाजपा पर निशाना साधते हुए रामचंद्र पूर्वे ने कहा की जिस तरह से लालू यादव ने अश्वमेध का घोड़ा रोका था। उसी तरह सांप्रदायिकता के रथ को रोकने का काम महागठबंधन की सरकार ने किया है। 

उन्होंने कहा की राम सिर्फ हिन्दू के देवता नहीं है। बल्कि सम्पूर्ण मानवता के देवता है। इसलिए राम के वजूद को बचाना है। सुशील मोदी के बयान पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि राजसत्ता की प्राप्ति के लिए इच्छा शक्ति जरूरी है। लेकिन वह भोग के लिए नहीं, बल्कि भू-मंडल की एकता को कायम करने के लिए होना चाहिए।

वैशाली से राजकुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News